Advertisements

Yantra Sadhana Book By Sri Yogeshwaranand & Sumit Girdharwal

Yantra Sadhana Book by Sri Yogeshwaranand Ji & Sumit Girdharwal (Collection of 131 Divine & Rare Yantras)

माँ पीताम्बरा की कृपा से यन्त्र साधना पुस्तक का प्रकाशन सम्भव हुआ। आशा ही नहीं अपितु पूर्ण विश्वास है कि ये आपके जीवन में उपयोगी सिद्ध होगी।

Buy Online from Ebay 1

Buy Online from Ebay 2

Yantra Sadhana Book By Sri Yogeshwaranand & Sumit Girdharwal

You can also deposit Rs 400 in below a/c and send us receipt on whatsapp – 9540674788 or email us asthaprakashanmandir@gmail.com

Astha Prakashan Mandir
Axis Bank. 917020072807944
IFSC Code – UTIB0001094
Branch – Baghpat (U.P.) Pin 250609

Our Other Books

  1. Sri Baglamukhi Tantram – Rs 400/=
  2. Agama Rahasya – Rs 500/=
  3. Shatkarm Vidhaan – Rs 380/=
  4. Pratyangira Sadhana Rahasya – Rs 400/=
  5. Shodashi Mahavidya – Rs 370/=
  6. Mantra Sadhana – Rs 280/=
  7. Baglamukhi Sadhana Aur Siddhi – Rs 350/=

Request

We are doing research in Astrology at International level and our target is to collect more than 10 Lakh correct horoscopes of different people with their basic details. Currently no research is being conducted in this field and due to that you can see that lot of incorrect predictions are being done by different astrologers worldwide. India has got well repulation in past due to  research in Astronomy & Astrology by our Rishis (Sages). Since then we are following them but no further development & research is going on. So we have taken this responsibility to create a data of different people with correct information and based on that we can analyse and create new formulas to predict better and correct future events. If you want to contribute in this great work then please send us your date of birth, time & place with below details –

  • Your height
  • Your Gender
  • Marital Status.
  • If married your date of marriage & other info like divorced and further marriages with dates.
  • No. of children with their birth details.
  • Your best 5 events of life with dates ( 5 not compulsory as much as u can provide easily and which u remember)
  • Your worst 5 events of life with dates
  • Your behavior/nature related info like do u get angry frequently or u fight with people, you have lots of enemies, you have court cases, you have lots of friends, you are cool in nature, anything like this.
  • Your financial status – Rich, Medium,Poor, Worst
  • Any other info which u think is relevant.

If you also wish to receive valued information on mantras & astrology then please send us a request with ur email.

Email : sumitgirdharwal@yahoo.com

Phone : 9540674788 (Whatsapp)

Web : www.baglamukhi.info

Blog : shribaglamukhi.wordpress.com

Yantra Sadhana By Sri Yogeshwaranand

yantra sadhana page 4

yantra sadhana by sri yogeshwaranand ji page 5

yantra sadhana by sri yogeshwaranand ji page 6

yantra sadhana by sri yogeshwaranand ji page 7

yantra sadhana by sri yogeshwaranand ji page 8

yantra sadhana by sri yogeshwaranand ji page 9

yantra sadhana by sri yogeshwaranand ji page 10

yantra sadhana by sri yogeshwaranand ji page 11

yantra sadhana by sri yogeshwaranand ji page 12

 

Yantra Sadhana By Sri Yogeshwaranand back cover

131 Yantras –

1. Sri Ganesha Yantra
2. Deh Raksha Yantra  (Pandreh)
3. Shiv Shakti Bisa Yantra
4. Gopal Yantra
5. Gita Yantra
6. Brahm Gayatri Yantra ( Mantra for early marriage of Girls)
7. Ananga Yantra
8. Bhagwad Kripa Yantra
9. Sri Ram Yantra
10. Jyestha Lakshmi Pujan Yantra
11. Shakra Vesma Yantra (Trilokya Mohini Lakshmi Prayoga)
12. Vasudha Lakshmi Pujan Yantra
13. Lakshmi Bisa Yantra
14. Lakshmi Prapti Yantra
15. Sri Durga Navarna Bisa Yantra
16. Shulini Durga Yantra
17. Sri Durga Yantra
18. Durga Yantra
19. Durga Saptashati Yantra (Shatchandi Prayoga)
20. Sri Matangi Tantra (Matangi Tantra Evam Kavach)
21. Divya Yantra Prayoga (Putra Prapti Hetu)
22. Bala Tripura Yantra ( Pujan )
23. Bala Tripura Mantra (Dharan)
24. Tara Yantra ( Pujan )
25. Tara Yantra ( Dharan )
26. Shamshaan Kali Yantra
27. Dakshin Kali Yantra (Pujan)
28. Vyapar Vradhi Yantra -1
29. Vyapar Vradhi Yantra – 2
30. Naukri Hetu Yantra
31. Manorath Siddhi Yantra
32. Dyut Kreeda Yantra
33. Grah Nirman Bisa Yantra
34. Siddha Bisa Yantra
35. Rina Mukti Bisa Yantra
36. Abhista Phal Hetu Yantra
37. Dhan Evam Santan Prapti Yantra
38. Divya Bisa Yantra
39. Vyapar Vradhi Hetu Pandrah Ka Yantra
40. Vyapar Vradhi Hetu Surya Bisa Yantra
41. Machha Yantram
42. Girvaan Yantra (Chakra)
43. Atul Sampada Prapti Yantra
44. Mukadme Me Vijay Prapti Hetu Yantra
45. Ghanta Karna Yantra (Ku Drasti Nashak Yantra)
46. Sarvabadha Prasman Yantra
47. Mahakal Yantra
48. Jayand Yantra
49. Saubhagya Vradhi Yantra
50. Uchhista Pisachak Yantra
51. Apada Uddharak Batuk Bhairav Yantra
52. Labh Hani Janne Hetu Yantra
53. Ishta Grah Kumar Yantra
54. Santan Dayak Bisa Yantra
55. Santanprada Shatkon Bisa Yantra
56. Putra Prapti Hetu Yantra
57. Putri Ke Vivah Hetu Yantra
58. Surya Yantra
59. Chandra Yantra
60. Mangal Yantra
61. Budha Yantra
62. Brahaspati Yantra
63. Shukra Yantra
64. Shani Yantra
65. Rahu Yantra
66. Ketu Yantra
67. Vartali Stambhan Yantra
68. Swasti Bisa Yantra
69. Lakshmi Prapti Hetu Bisa Yanyta
70. Sarvasiddhi Yantra
71. Tripur Bhairavi Yantra
72. Sudarshan Mahachakram
73. Saraswati Yantra
74. Sri Vishnu Yantra
75. Narayan Bisa Yantra
76. Dattatreya Yantra
77. Swayam Siddha Nigraha Yantra
78. Shatru Shaman Evam Vijay Prapti Hetu Baglamukhi Yantra
79. Ripurdal Nashak Yantra
80. Shatru Nashak Yantra
81. Prana Nashak Yantra
82. Sidha Vashikaran Yantra
83. Adhikari Vashikaran Yantra
84. Premi Vashikaran Yantra
85. Sarva Vashikaran Yantra -1
86. Sarva Vashikaran Yantra -2
87. Kamraj Yantra
88. Rakeshwari Yantra
89. Urvashi Yantra
90. Manibhadra Yantra
91. Raj Vashikaran Yantra
92, Bandi Ki Rihai Hetu Yantra
93. Premakarshan Yantra
94. Bandi Mochan Yantra
95. Gaye Vyakti ko Vapas Bulane ka Yantra
96. Pati Vashikaran Yantra
97. Buddhi Stambhan Yantra
98. Chugalkhor Mukha Stambhan Yantra
100. Nara Nari Vidweshan Yantra
101. Shatru Uchhatan Yantra Prayoga
102. Mukti, Shatru evam Badha Nivaran Hetu Baglamukhi Yantra Sadhana
103. Trelokya Uchattan Yantra
104. Stri Uchattan Yantra
105. Prem Mukti Yantra
106. Garbhapaat Nashak Yantra
107. Mratavatsa Dosh Nashak Yantra
108. Garbha Dharan Yantra
109. Pret Utarne Ka Yantra
110. Sarvarog Mukti Yantra
111. Sira Roga Nivaran Yantra
112. Bhairav Yantra, Prasav Vedna Nivaran Prayog
113. Najar Hatane ka Yantra
114. Pranarakshak Mritunjaya Yantra, Garbh Dharan Prayoga
115. Mrut Sanjivani Yantra
116. Rognashak Mratunjaya Yantra Manohari Yakshini Sadhana
117. Safed Dag theek Hone ka Yantra
118. Kushtha Rog se Mukti Hetu Yantra
119. Mratyunjaya Shiv Yantra
120. Rog Mukti Bisa Yantra
121. Parkaay Pravesh Yantra-1
122. Parkaay Pravesh Yantra -2
123. Mahamohan Yantra
124. Dhanprapti Yantra
125. Baglamukhi Yantra ( Pujan)
126. Shatru Nashak Yantra
127. Padmavati Yantra
128. Chorahe Ki Lag Hatane Ka Yantra
129. Rojgar Prapti Hetu Yantra
130. Stri /Purush Vashikaran Yantra
131. Mahavijay Yantra

 

Baglamukhi Shodashopachara Pujan बगलामुखी षोडशोपचार पूजन

Baglamukhi Shodashopachara Pujan बगलामुखी षोडशोपचार पूजन

शास्त्रों में देवी-देवताओं को प्रसन्न करने हेतु उपासना-विधियों में सर्वोत्तम उपासना-विधि उनके षोडशोपचार पूजन को माना गया है। षोडशोपचार पूजन का अर्थ होता है – सोलह उपचारों से पूजन करना। सोलह उपचार निम्नवत् कहे गए हैं।
(1) आवाहन (2) आसन (3) पाद्य (4) अर्घ्य (5) स्नान (6) वस्त्र
(7) यज्ञोपवीत (8) गन्ध (9) पुष्प तथा पुष्पमाला (10) दीपक (11) अक्षत (चावल) (12) पान-सुपारी-लौंग (13) नैवेद्य (14) दक्षिणा (15) आरती (16) प्रदक्षिणा तथा पुष्पाञ्जलि।
इन उपचारों के अतिरिक्त पांच उपचार, दश उपचार, बारह उपचार, अट्ठारह उपचार आदि भी होते हैं। लेकिन यहां 16 उपचारों की पूजन- सामग्री एवं उनका विधान अंकित किया जा रहा है। सामग्री को पूजा से पहले अपने पास रख लेना चाहिए। यहां सामग्री में हवन की सामग्री भी लिखी गयी है। यदि केवल पूजन ही करना हो तो वांछित सामग्री का चयन साधक अपनी सुविधा तथा उपलब्धता के अनुसार करके एकत्र कर लें।

For Baglamukhi Mantra Diksha & sadhana guidance email to shaktisadhna@yahoo.com or call us on 9540674788.

Download Baglamukhi Shodashopchar Poojan बगलामुखी षोडशोपचार पूजन

baglamukhi shodshopchara pooja बगलामुखी षोडशोपचार पूजन 1

baglamukhi shodshopchara poojan बगलामुखी षोडशोपचार पूजन 1

baglamukhi shodshopchara pujan बगलामुखी षोडशोपचार पूजन 3

baglamukhi shodshopchara puja बगलामुखी षोडशोपचार पूजन 4

baglamukhi shodshopchara pooja बगलामुखी षोडशोपचार पूजन 1

baglamukhi shodshopchara pooja बगलामुखी षोडशोपचार पूजन 1

baglamukhi shodshopchara pooja बगलामुखी षोडशोपचार पूजन 1

baglamukhi shodshopchara pooja बगलामुखी षोडशोपचार पूजन 1

baglamukhi shodshopchara pooja बगलामुखी षोडशोपचार पूजन 1

baglamukhi shodshopchara pooja बगलामुखी षोडशोपचार पूजन 1

baglamukhi shodshopchara pooja बगलामुखी षोडशोपचार पूजन 1

For purchasing our books please deposit the amount in below a/c –

Astha Prakashan Mandir
Axis Bank
917020072807944
IFSC Code – UTIB0001094
Branch – Baghpat (U.P.) Pin 250609

Other Articles on Mantra Tantra Sadhana

1. Baglamukhi Puja Vidhi in English (Ma Baglamukhi Pujan Vidhi)

2. Dus Mahavidya Tara Mantra Sadhana Evam Siddhi

3. Baglamukhi Pitambara secret mantras by Shri Yogeshwaranand Ji

4. Bagalamukhi Beej Mantra Sadhana Vidhi

5. Baglamukhi Pratyangira Kavach

6. Durga Shabar Mantra

7. Orignal Baglamukhi Chalisa from pitambara peeth datia

8. Baglamukhi kavach in Hindi and English

9. Baglamukhi Yantra Puja

10. Download Baglamukhi Chaturakshari Mantra and Puja Vidhi in Hindi Pdf

11. Dusmahavidya Dhuamavai (Dhoomavati) Mantra Sadhna Vidhi 

12. Mahashodha Nyasa from Baglamukhi Rahasyam Pitambara peeth datia

13. Mahamritunjaya Mantra Sadhana Vidhi in Hindi and Sanskrit

14. Very Rare and Powerful Mantra Tantra by Shri Yogeshwaranand Ji

15. Mahavidya Baglamukhi Sadhana aur Siddhi

16. Baglamukhi Bhakt Mandaar Mantra 

17. Baglamukhi Sahasranamam

18. Dusmahavidya Mahakali Sadhana

19. Shri Balasundari Triyakshari Mantra Sadhana

20. Sri Vidya Sadhana

21. Click Here to Download Sarabeswara Kavacham

22. Click Here to Download Sharabh Tantra Prayoga

23. Click Here to Download Swarnakarshan Bhairav Mantra Sadhana Vidhi By Gurudev Shri Yogeshwaranand Ji

24. Download Mahakali Mantra Tantra Sadhna Evam Siddhi in Hindi Pdf

25. Download Twenty Eight Divine Names of Lord Vishnu in Hindi Pdf

26. Download Shri Hanuman Vadvanal Stotra in Hindi Sanskrit and English Pdf

27. Download Shri Narasimha Gayatri Mantra Sadhna Evam Siddhi in Hindi Pdf

28. Download Santan Gopal Mantra Vidhi in Hindi and Sanskrit  Pdf

29. Download Shabar Mantra Sadhana Vidhi in Hindi Pdf

30. Download sarva karya siddhi hanuman mantra in hindi

31. Download Baglamukhi Hridaya Mantra in Hindi Pdf

32. Download Baglamukhi Mantra Avam Sadhna Vidhi in Hindi

33. Download Shiva Shadakshari Mantra Sadhna Evam Siddhi ( Upasana Vidhi)

34. Download Vipreet Pratyangira Mantra Sadhna Evam Siddhi & Puja Vidhi in Hindi Pdf

35. Download Aghorastra Mantra Sadhna Vidhi in Hindi & Sanskrit  Pdf

36. Download Shri Lalita Tripura Sundari khadgamala Stotram in Sanskrit & Hindi Pdf

37. Download Sarva Karya Siddhi Saundarya Lahri Prayoga in Hindi Pdf

38. Download Pashupatastra Mantra Sadhana Evam Siddhi  Pdf in Hindi & Sanskrit

39. Download Param Devi Sukt of Ma Tripursundari Mantra to attract Money & Wealth

40. Download Very Powerful Hanuman Mantra Sadhna and Maruti Kavach in Hindi Pdf

41. Download Baglamukhi Pitambara Ashtottar Shatnam Stotram

42. Download Magha Gupta Navaratri 2015 Puja Vidhi and Panchanga

43. Download Baglamukhi Chaturakshari Mantra and Puja Vidhi in Hindi Pdf

44. Chinnamasta Mantra Sadhana Evam Siddhi in Hindi

45. Download Baglamukhi Ashtakshar Mantra Sadhana in Hindi

46. Download Baglamukhi Bhakt Mandaar Mantra for Wealth & Money

47. Download Shiv Sadhana Vidhi on Shivratri 12 August 2015 Shiv Puja Vidhi in Hindi pdf

48. Pushp Kinnari Sadhana Evam Mantra Siddhi in Hindi

49. Download Bhagwati Baglamukhi Sarva Jana Vashikaran Mantra in Hindi and English Pdf

50. Downloadd Sri Kali Pratyangira Sadhana Evam Siddhi in Hindi and Sanskrit Pdf

51. Which Sadhana is Best? कौन सी साधना उत्तम है?

52. Download Chaur Ganesh Mantra चौर गणेश मंत्र Pdf

53. Download Baglamukhi Utkeelan Utkilan Mantra Evam Keelak Stotra in Hindi

54. Download Sri Baglamukhi Panjar Stotram Pdf

55. Download Devi Baglamukhi Hridaya Stotra in Hindi & Sanskrit Pdf

56. Download Baglamukhi Shodashopchar Poojan बगलामुखी षोडशोपचार पूजन

2017 Shardiya Navratri Puja Vidhi andDates  शारदीय नवरात्री  पूजा विधि  

2017 Shardiya Navratri Puja Vidhi & Dates  शारदीय नवरात्री  पूजा विधि

maa durga nava roop nine forms of shakti

शारदीय नवरात्रि शुरू हो रहे हैं और आने वाले नौ दिनों तक मां दुर्गा की 9 शक्ति की पूजा- आराधना की जाएगी। इस समय का उपयोग साधक विशिष्ट साधनाओं को सम्पन्न करने में किया करते हैं। यह समय सभी साधको के लिए बहुत ही ज्यादा महत्वपूर्ण होता है क्योंकि इस काल में की गयी उपासना का विशेष फल प्राप्त होता है। जो लोग अभी तक किसी कारण से कोई अनुष्ठान अथवा पुरश्चरण नहीं कर सके हैं उन्हें कल से वह अवश्य शरू कर देना चाहिए। यह जरुरी नहीं है कि नवरात्र में केवल माँ दुर्गा की ही उपासना की जाती है बल्कि इस समय आप किसी भी इष्ट देवता के मंत्रो का अनुष्ठान कर सकते हैं। नवरात्र के पहले दिन अपने गुरु देव से मंत्र दीक्षा लेकर, उसका अनुष्ठान करना चाहिए। कुछ साधको के मन में एक प्रश्न रहता है कि क्या नवरात्र में शरू किया गया अनुष्ठान नवरात्र में ही पूर्ण करना जरुरी है , नहीं ऐसा बिल्कुल नहीं है। ये अनुष्ठान आप २१ अथवा ४० दिन में भी पूर्ण कर सकते हैं लेकिन यदि हो सके तो अंतिम नवरात्र तक पूर्ण कर लेना चाहिए। यदि किसी कारण से अनुष्ठान करना सम्भव नहीं है तो नवरात्र में जितना अधिक जप हो सके उतना ही अच्छा है।

नवरात्र में अपने इष्ट देव के सहस्रनाम से अर्चन करना चाहिए। सहस्त्रनाम में देवी/देवता के एक हजार नाम होते हैं। इसमें उनके गुण व कार्य के अनुसार नाम दिए गए हैं। सर्व कल्याण व कामना पूर्ति हेतु इन नामों से अर्चन करने का प्रयोग अत्यधिक प्रभावशाली है। जिसे सहस्त्रार्चन के नाम से जाना जाता है।  सहस्र नामावली के एक-एक नाम का उच्चारण करके देवी की प्रतिमा पर, उनके चित्र पर, उनके यंत्र पर या देवी का आह्वान किसी सुपारी पर करके प्रत्येक नाम के उच्चारण के पश्चात नमः बोलकर देवी की प्रिय वस्तु चढ़ाना चाहिए। जिस वस्तु से अर्चन करना हो वह शुद्ध, पवित्र, दोष रहित व एक हजार से अधिक संख्या में होनी चाहिए।अर्चन में बिल्वपत्र, हल्दी, केसर या कुंकुम से रंग चावल, इलायची, लौंग, काजू, पिस्ता, बादाम, गुलाब के फूल की पंखुड़ी, मोगरे का फूल, चारौली, किसमिस, सिक्का आदि का प्रयोग शुभ व देवी को प्रिय है। यदि अर्चन एक से अधिक व्यक्ति एक साथ करें तो नाम का उच्चारण एक व्यक्ति को तथा अन्य व्यक्तियों को नमः का उच्चारण अवश्य करना चाहिए।सहस्त्रनाम के पाठ करने का फल भी महत्वपूर्ण है। अर्चन की सामग्री प्रत्येक नाम के पश्चात, प्रत्येक व्यक्ति को अर्पित करनी चाहिए। अर्चन के पूर्व पुष्प, धूप, दीपक व नैवेद्य देवी/देवता को अर्पित करना चाहिए। दीपक पूरी अर्चन प्रक्रिया तक प्रज्वलित रहना चाहिए।

If you need any guidance please call us on 9917325788 (Sri Yogeshwarannad Ji ) & 9540674788 (Sumit Girdharwal)

2017  Shardiya Navratri Dates

21 September 2017 ( Thursday ) Pratipada Ghatasthapana Shailputri Puja
22 September 2017 ( Friday ) Dwitiya Brahmacharini Puja
23 September 2017 ( Saturday )  Tritiya Chandraghanta Puja
24 September 2017 ( Sunday ) Chaturthi Kushmanda Puja
25 September 2017 ( Monday ) Panchami Skandamata Puja
26 September 2017 ( Tuesday) Shashthi Katyayani Puja
27 September 2017 ( Wednesday) Saptami Kalaratri Puja
28 September 2017(Thursday ) Ashtami Durga Ashtami Mahagauri Puja Sandhi Puja
29 September 2017 (Friday )Navami Siddhidatri Puja
30 September 2017 (Saturday )  Dashami Navratri Parana

21  सितम्बर 2017 ( गुरुवार) घट स्थापना, शैलपुत्री पूजा
22 सितम्बर 2017 ( शुक्रवार) द्वितीया ब्रह्मचारिणी पूजा
23 सितम्बर 2017 ( शनिवार )  तृतीया चंद्रघंटा पूजा
24 सितम्बर 2017 ( रविवार ) चतुर्थी कुष्मांडा पूजा
25 सितम्बर 2017 ( सोमवार ) पंचमी स्कंदमाता पूजा
26 सितम्बर 2017 ( मंगलवार) षष्ठी कात्यायनी पूजा
27 सितम्बर 2017 ( बुधवार ) सप्तमी कालरात्रि पूजा
28 सितम्बर 2017 (गुरुवार) अष्टमी महागौरी पूजा, दुर्गा महा अष्टमी पूजा,
29 सितम्बर 2017  (शुक्रवार) नवमी  सिद्धिदात्री पूजा
30 सितम्बर 2017 (शनिवार )  दशमी नवरात्री परायण

यह है घट स्थापना का समय

इस बार घटस्‍थापना और पूजा के लिए दो मुहूर्त है एक सुबह का और दूसरा दोपहर का ।  इस दिन कलश स्थापना का शुभ मुहूर्त सुबह 06:18 बजे से 8:10 बजे तक एवं  11:49 से दोपहर 12: 37 बजे तक है।
Read the rest of this entry

Devi Baglamukhi Hridaya Stotra in Hindi & Sanskrit (बगलामुखी हृदय स्तोत्र)

Baglamukhi Hridaya Stotram बगलामुखी हृदय स्तोत्र

This Hymn  (Baglamukhi Hridaya Stotram) is considered to be heart of the Mother. Hymn’s follower attains whatever he see in this world.

For Baglamukhi Mantra Diksha & Sadhana guidance email to shaktisadhna@yahoo.com or call us on 9540674788. Visit http://www.baglamukhi.info and http://www.yogeshwaranand.org for more information.

किसी भी देवी या देवता से सम्बन्धित हृदय-स्तोत्र देवता का हृदय ही होता है। यह स्तोत्र भगवती बगलामुखी से सम्बन्धित है। उनके हृदय में बस जाना या फिर उन्हें अपने हृदय में बसा लेना ये दोनों ही विकल्प इस पाठ का उद्देश्य हैं। उनके हृदय में निवास कर पाना तो एक स्वप्न मात्र ही है, क्योंकि इसके लिए तो परम शक्तिमान भी लालायित रहते हैं। हां, हमारी भक्ति के प्रसाद-स्वरूप यह फल अवश्य मिल सकता है कि ये विश्वाश्रय हमारे हृदय में बस जाएं और वास्तव में जीवन का यही तो लक्ष्य है; तभी तो हमारा उद्धार सम्भव है।
‘हृदय-स्तोत्र’ के द्वारा भगवती बगला की कृपा प्राप्त करने हेतु एक विशिष्ट प्रयोग है। आश्विन मास की महा-अष्टमी के दिन पीताचारी, पीताहारी होकर किसी प्राचीन शिवालय अथवा शक्तिपीठ में इस हृदय-स्तोत्र का अनुष्ठान संकल्प लेकर करें। इस प्रकार इस स्तोत्र का पाठ करने से मां पीताम्बरा की कृपा प्राप्त होती है और साधक के शत्रु पराभव को प्राप्त होते हैं। (यह अनुभूत प्रयोग है।) बगला-हृदय-स्तोत्र वास्तव में साधक के लिए ‘वांछाकल्पद्रुम’ के समान है। यूं तो इस पाठ के विषय में कुछ भी कहना सूर्य को दीपक दिखाने के समान ही होगा, तो भी सामान्यतः कुछ विशिष्टताओं को स्पष्ट करना यहां उचित प्रतीत होता है।

यथा
1. यदि मात्र बगला-हृदय-स्तोत्र का ही पाठ कर लिया जाए तो फिर साधक को जप आदि अथवा अनुष्ठान की कोई आवश्यकता नहीं रहती।
2. इस पाठ के स्मरण-मात्र से ही साधक के सभी अभीष्ट पूर्ण हो जाते हैं।
3. इस स्तोत्र का पाठ करने वाले के लिए इस पृथ्वी पर कुछ भी अप्राप्य नहीं रह जाता है।
4. इस स्तोत्र का तीनों समय पाठ करने के प्रभाव से गूंगा बोलने लगता है, पंगु चलने लगता है, दीन सर्वशक्तिमान हो जाता है; घोर दरिद्र व्यक्ति धनवान हो जाता है; चारों ओर से निन्दित व्यक्ति भी ख्याति प्राप्त कर लेता है; और मूर्खतम व्यक्ति की वाणी में ओज एवं कवित्व की शक्ति आ जाती है।
5. इस स्तोत्र के पाठ में ध्यान आदि आवश्यक नहीं है। जप, होम, तर्पण आदि की भी कोई आवश्यकता नहीं है।
6. इस स्तोत्र-पाठ के पाठी का उल्लंघन करने मात्र से स्वयं ब्रह्मा भी सकुशल नहीं रह सकते। यह स्तोत्र परम संतोष-प्रदायक एवं सिद्धियां प्रदान करने वाला है, क्योंकि यह साक्षात् मां बगला का हृदय है।

भगवती बगला के इस हृदय स्तोत्र से प्राप्त होने वाले अनेक परिणामों के विषय में मेरा सुखद अनुभव रहा है। इसलिए मैं ऐसे पाठकों/साधकों को भी इस स्तोत्र का अनुष्ठान करने का परामर्श दूंगा।

जो सब तरफ से निराश हो चुके हैं और जिनको कोई भी रास्ता स्पष्ट नहीं होता। उनसे मैं निवेदन करूंगा कि संकल्प लेकर कम से कम ग्यारह सौ स्तोत्रों का अनुष्ठान अवश्य करें।

Download Devi Baglamukhi Hridaya Stotra in Hindi & Sanskrit Pdf

View Devi Baglamukhi Hridaya Stotram on Google


Purchase our books Online –
Buy Sri Baglamukhi Tantram
Buy Pratyangira Sadhana
Buy Shatkarm Vidhan Book
Buy Baglamukhi Sadhana Aur Siddhi
Buy Agama Rahasya
Buy Shodashi Mahavidya (Sri Vidya Sadhana)
Buy Mantra Sadhana Book

Read the rest of this entry

Shri Baglamukhi Tantram Book by Sri Yogeshwaranand & Sumit Girdharwal

Shri Baglamukhi Tantram Book by Sri Yogeshwaranand & Sumit Girdharwal

माँ पीताम्बरा की अनुकम्पा से ” श्री बगलामुखी तन्त्रम ” ग्रंथ का प्रकाशन संभव हुआ। आशा ही नहीं अपितु पूर्ण विश्वास है कि यह आपके जीवन में आपका मार्गदर्शन करेगा। ISBN – 9789352884773,9352884779

अधिक जानकारी के लिए संपर्क करें – 9540674788

Buy Baglamukhi Tantram Book Online from Payumoney

Buy Baglamukhi Tantram Book Online from Ebay

Buy Baglamukhi Tantram Book Online from Amazon

Shri Baglamukhi Tantram Book By Yogeshwaranand & Sumit Girdharwal Preview

View Book on Google

 

यदि आप यह पुस्तक प्राप्त करना चाहते हैं तो नीचे दिए गए अकाउंट में Rs 400/= जमा करें –

Pls deposit Rs 400 in below account if you want to buy this book –

Astha Prakashan Mandir
Axis Bank
917020072807944
IFSC Code – UTIB0001094
Branch – Baghpat (U.P.) Pin 250609

You can also pay via Paytm on – 9540674788

Send the receipt to our email sumitgirdharwal@yahoo.com or whatsapp +91-9540674788

अनुक्रमणिका

1 –  साधना पूर्व ज्ञातव्य तथ्य

नाम, कुल, आम्नाय, आचार, विद्या, गणेश, शिव, भैरव, यक्षिणी, अंग-विद्या, कुल्लुका, सेतु-महासेतु, निर्वाण, दीपन, जीवन, मुख शोधन, उत्कीलन, शापोद्धार, भाव, क्रम, मन्त्र, मुद्राएं, चैर गणेश मन्त्र, अन्य तथ्य, भगवती बगला का गुरु-क्रम: दिव्यौघ, सिद्धौघ, मानवौघ, मूल विद्याएं कौन सी हैं?, ‘कुल’ क्रमानुसार वर्गीकरण, भगवती बगला के विभिन्न नाम, प्रयोजन भेद से फल-विभेद, कुछ विशेष: वल्ली-सिद्धि मन्त्र, वशीकरण प्रयोग, स्वप्न-विद्या-8।
2- मुद्राएं

मुद्राओं का चित्र द्वारा प्रदर्शन, आवाहिनी मुद्रा, स्थापिनी मुद्रा, सन्निधापिनी मुद्रा, सन्निरोधिनी मुद्रा, धेनु मुद्रा, योनि मुद्रा, मत्स्य मुद्रा, मुद्गर मुद्रा, कूर्म-मुद्रा।
3- श्री बगलामुखी पूजन विधान
पूजन-सामग्री, दीप-पूजन, संकल्प, ध्यान, आवाहन, सान्निध्य, पाद्य, अर्घ्य , आचमन, स्नान, दुग्ध स्नान, दधि स्नान, घृत स्नान, मधु-स्नान, शर्करा स्नान, गन्धोदक स्नान, शुद्धोदक स्नान, वस्त्र तथा उपवस्त्र, गन्ध, सौभाग्य सूत्र, अक्षत, हरिद्रा, कुंकुम, सिन्दूर, कज्जल, पुष्प-पुष्पमाला, धूप, दीप, नैवेद्य तथा ऋतुफल, ताम्बूल, दक्षिणा, पुष्पाञ्जलि, आरती,प्रदक्षिणा, प्रार्थना।
4- आवरण-पूजा
प्रथम आवरण-35, द्वितीय आवरण, तृतीय आवरण, चतुर्थ आवरण, पंचम आवरण, षष्टम् आवरण, सप्तम आवरण, पुष्पांजलि, प्रार्थना, कुछ विशेष।
5- मन्त्रोत्कीलन
बगला-मन्त्र-उत्कीलन-विधान, हृदयादिन्यास, श्री बगला कीलक स्तोत्र।
6- श्री बगला अष्टोत्तर शतनाम स्तोत्रम् (108 नाम )
विनियोग, स्तोत्र, कुछ विशेष।
7- श्री बगलामुखी-स्तोत्रम् 
विनियोग, हृदयादिन्यास, ध्यान, स्तोत्र, भावार्थ, कुछ विशेष।
8- श्री बगलामुखी-हृदय-स्तोत्रम्
श्री बगलामुखी-हृदय-स्तोत्रम्, विनियोग, करांग-न्यास, ध्यान, जप-मन्त्र, स्तोत्र, फलश्रुति।
9- कवच
दशांगों में मुख्य अंग, कवच की महत्ता, प्रमाणीकरण की अनिवार्यता, कवच की विशेषताएं, श्री विश्वविजय- कवच, कवच-पाठ, फलश्रुति, भावार्थ, कवच का अर्थ, कवच के तान्त्रिक प्रयोग, वीर तन्त्रोक्त बगलामुखी कवच, कवच-पाठ, विनियोग, षडंगन्यास, ध्यान, विधान।
10- बगला प्रत्यंगिरा कवच
अथ बगला-प्रत्यंगिरा कवचम्: श्री शिव उवाच, श्री देव्युवाच, श्री भैरव उवाच, श्री सदाशिव उवाच, श्री पार्वत्युवाच, श्री शिव उवाच, विनियोग, जपमन्त्र, पाठ, बगला प्रत्यंगिरा कवच का विशिष्ट प्रयोग, बगला प्रत्यंगिरा मन्त्र।
11- श्री बगलामुखी के विविध् मन्त्र एवं उनका विधान
एकाक्षरी, त्रयाक्षरी, चतुर्क्षरी, पञ्चाक्षर, सप्ताक्षर, अष्टाक्षर, नवाक्षर, एकादशाक्षर, पञ्चचदशाक्षर, एकोनिविंशाक्षर, त्रयविंशाक्षर, चतुस्त्रिांशदक्षर, षट्त्रिंशदक्षर, अष्टत्रिंशदक्षर, त्रिचत्वारिंशदक्षर, पञ्च चत्वारिंशदक्षर, अशीत्यक्षर हृदय मन्त्र, शताक्षर मन्त्र, भगवती के अन्य मन्त्र, बाला भिन्नपाद बगला-मन्त्र, संहारक्रम में कालरात्रि बगला समष्टि मन्त्र, वशीकरण हेतु सुमुखि बगला मन्त्र, बगला चामुण्डा मन्त्र, विशिष्ट मारण मन्त्र, बगला प्रत्यंगिरा मन्त्र, बगला गायत्राी मन्त्र,  भगवती बगला के पञ्चास्त्र, पञ्चास्त्रों के मन्त्र: वडवामुखी, उल्कामुखी, जातवेदमुखी, ज्वालामुखी, वृहदभानुमुखी, भगवती बगला के कुछ विशिष्ट मन्त्र, पांडवी चेटिका विद्या, ब्रह्मास्त्र उपसंहार विद्या, परविद्या-ग्रसिनी मन्त्र, औपनिषदिक मन्त्र, वल्लीसिद्धि, स्त्री -वशीकरण, स्वप्न-विद्या,  शत्रु विध्वंसक मन्त्र, बगला एकाक्षरी मन्त्र विधान, विनियोग, ऋष्यादि न्यास, करन्यास, अंगन्यास, प्रथम ध्यान, दूसरा ध्यान, पुरश्चरण विधि, बगला मातृका न्यास, चतुरक्षरी मन्त्र विधान: मन्त्रा स्वरूप, ध्यान, विनियोग, करन्यास, षडंगन्यास, विधान, चतुक्षरी मन्त्र द्वारा तर्पण के तान्त्रिक प्रयोग, होम द्वारा अभिचार कर्म सम्पादन, बगला अष्टाक्षर मन्त्र विधान, मन्त्र, विनियोग, ऋष्यादिन्यास, करन्यास, षडंगन्यास, ध्यान, बगला अष्टाक्षर मन्त्र के विविध प्रयोग, श्री बगला गायत्री मन्त्र, जप विधान, विनियोग, ऋष्यादिन्यास, करन्यास, षडंगन्यास, प्रयोग, बीज सम्पुटीकरण विधान, विनियोग, ऋष्यादिन्यास, करन्यास, अंगन्यास, ध्यान, प्रातःकाल में, मध्याद्द काल में-115, एकोनविंशाक्षर मन्त्रा (भक्त मन्दार विद्या), उद्धार, ध्यान, जपमन्त्र, त्रायविंशाक्षर मन्त्र, जपमन्त्रा, ध्यान-117, चतुस्ंित्राशदक्षर मन्त्रा-विधान, ध्यान, विनियोग, न्यास षट्विंशदक्षर मन्त्र-विधान, जपमन्त्र, ध्यान, जपमन्त्र, विनियोग, ऋष्यादिन्यास, करन्यास, षडंगन्यास, ध्यान, मन्त्राराज की सिद्धि हेतु पूर्ण विधान, प×चक्रमासक्त, मन्त्रवर्ण न्यास, मन्त्रा-122, पुरश्चरण के फल-123, फल एवं होम: आकर्षण, विद्वेषण, स्तम्भन, शत्राु-विनाश, उच्चाटन, रोगनाश, समस्त कार्य सिद्धि, शीघ्रगमन सिद्धि, अदृश्यीकरण, शत्राु-सामथ्र्य-हरण, विष-निवारण, दरिद्रता-नाश-127, गति-स्तम्भन, वाणी-स्तम्भन, शत्राु के सभी क्रिया-कलापों का स्तम्भन, दिव्य घटनाओं का स्तम्भन, अतिवृष्टि-स्तम्भन, मन्त्र राज के अन्य प्रयोग, कुछ विशिष्ट प्रयोग: सभी कार्यों में सिद्धि हेतु, सर्वाभीष्ट सिद्धि हेतु-132, शत्राुओं पर विजय-प्राप्ति, प्राण-प्रतिष्ठा मन्त्रा, शत्राुनाश हेतु पुतली-प्रयोग, विधान, पागल व रोगग्रस्त करने हेतु, प्रेतवस्त्र पर लिखायी का प्रारूप, शत्रु-स्तम्भन, शत्रु को आलस्य देना, शत्रु-पीड़ा व उन्मादग्रस्तीकरण, द्वितीय प्रयोग, तृतीय प्रयोग-143, चतुर्थ प्रयोग, पंचम प्रयोग, षष्ठम प्रयोग, एकोन प×चादशक्षर-विधान, जपमन्त्रा, प्रथम ध्यान, द्वितीय ध्यान, विनियोग, न्यास, षडंगन्यास-146, करन्यास, जपमन्त्रा, विनियोग-147, बगला-हृदय-मन्त्र, मन्त्र, प्रयोग, श्री बगलामुखी शताक्षरी महामन्त्र, मन्त्र, विनियोग, ऋष्यादिन्यास, करन्यास, अंगन्यास, ध्यान, शताक्षरी मन्त्रा प्रयोग, परविद्या-भेदन मन्त्रा, विनियोग, ऋष्यादिन्यास, करन्यास, षडंगन्यास, कुलेश्वरी (बगला) ध्यान, मारण प्रयोग, जपमन्त्र, विनियोग, ध्यान, प्रयोग-विधि, परकृत्य प्रयोग शमन-158, ब्रह्मास्त्र-उपसंहार-विद्या, कालरात्रि-मन्त्र, ध्यान, विनियोग, षडंगन्यास, मन्त्र जप, गरुड़ (ताक्ष्र्य) मन्त्रा, आनन्द-भैरव मन्त्र, कुछ विशेष।
12- श्री बगलामुखी माला मन्त्र 
13- श्री ब्रह्मास्त्र माला मन्त्र 
14- श्री बगलामुखी सूक्तम्
श्री बगला सूक्तम् (कृत्यानाशक प्रयोग) ।
15- श्री बगलामुखी पञ्जर स्तोत्र 
विनियोग, ऋष्यादिन्यास, करन्यास, अंगन्यास, व्यापक न्यास, अंगन्यास, ध्यान, पञ्जर स्तोत्र, पञ्जर न्यास स्तोत्रम्, कुछ विशेष।
16 बगलामुखी अंग देवता
हरिद्रा गणेश, मन्त्रा, विनियोग, ऋष्यादिन्यास, करन्यास, षडंगन्यास, ध्यान-178, मानसोपचार, शरभेश्वर-मन्त्रा, मन्त्रा, विनियोग, ऋष्यादिन्यास-179, करन्यास, षडंगन्यास,
ध्यान, निग्रह दारुण-सप्तकम्-180, ध्यान, भावार्थ-182, विनियोग, पाठ-183, फलश्रुति, स्वर्णाकर्षण भैरव-प्रयोग, मन्त्रा, विनियोग, ऋष्यादिन्यास-184, ध्यानम्-185, त्रयक्षरी मृत्यु×जय मन्त्रा प्रयोग, मन्त्रा, विनियोग, ऋष्यादिन्यास,
ध्यानम्, द्वादशाक्षर मृत्यु×जय मन्त्रा प्रयोग-186, विनियोग, ऋष्यादिन्यास, पंचांग न्यास, ध्यान, महामृत्यु×जय मन्त्रा-जप-विधान, मन्त्रा-188, विनियोग, ऋष्यादिन्यास, कर-षडंग-न्यास-189, वर्ण-न्यास-190, पदन्यास, ध्यानम्-191, श्री कण्ठादि मातृका कलान्यास, विनियोग, ऋष्यादिन्यास, कर-षडंगन्यास, ध्यानम्, समर्पण, श्री बटुक भैरव-मन्त्र- जप-प्रयोग, मन्त्र-195, विनियोग, करन्यास, षडंगन्यास,
ध्यान-196।
17-  भगवती बगला के शाबर-मन्त्र
मन्त्र, कुछ विशेष।
18- भूत-शुद्धि
दिव्यता अनिवार्य है, भूत-शुद्धि का महत्व, चित्त-शुद्धि, भूत-शुद्धि की अनिवार्यता, विधान, भूत-शुद्धि की प्रक्रिया, प्रथम प्रक्रिया, द्वितीय प्रक्रिया, तृतीय प्रक्रिया, चतुर्थ विधान, आत्म प्राण प्रतिष्ठा, ऋष्यादिन्यास, कर षडंग न्यास, धातु प्रतिष्ठा, मातृका न्यास: अन्तर्मातृका न्यास, ऋष्यादिन्यास, प्राणायाम, कर षडंग न्यास, कर शुद्धि न्यास, ध्यान, बहिर्मातृका न्यास: संहारमातृका न्यास, ऋष्यादिन्यास, षडंगन्यास, ध्यानम्, न्यास विधि, सृष्टि मातृका न्यास, विनियोग, ऋष्यादिन्यास, ध्यानम्, न्यास विधि, स्थिति मातृका न्यास: विनियोग, ऋष्यादिन्यास, कर-षडंग-न्यास, ध्यानम्, न्यास- विधि।
19- न्यास 
न्यास का अर्थ, न्यास के प्रकार, न्यास-विधान, लघु षोढ़ान्यास, विनियोग, ध्यानम्, गणेशन्यास, ग्रहन्यास, नक्षत्र न्यास, योगिनी-न्यास, ध्यान-239, अनाहत चक्र में शाकिणी का ध्यान-240, मणिपुर चक्र में लाकिनी का ध्यान-241, मूलाधार चक्र में शाकिनी का ध्यान, आज्ञाचक्र में हाकिनी का ध्यान-242, ब्रहरन्ध्र में सहस्त्रा दल कमल में याकिनी का ध्यान, राशिन्यास: ध्यानम्-243, पीठन्यास-244।
20 श्री बगलामुखी कल्प विधन
प्रयोग-विधि, दिग्वन्धन, विनियोग, ध्यानम्, मन्त्रोद्धार, पूजा, मन्त्र, स्तोत्रम्, कुछ विशेष।
21- अष्टोत्तर-शताध्कि श्री बगला-नागार्चन
ध्यानम्, नामार्चन-264।
22 सौभाग्य अर्चन 
सौभाग्यार्चा के लिए ज्ञातव्य तथ्य, सौभाग्य-अर्चन क्या है?, सौभाग्यार्चा हेतु तिथि एवं दिन, शक्ति चयन, अर्चना विधान, शिव उवाच, सौभाग्यार्चन में वर्जनाएं, शक्ति का षोडशोपचार पूजन, अर्चनोपरान्त कर्त्तव्य , श्रीसूक्त मन्त्रों द्वारा शक्ति का षोडशोपचार पूजन, आवाहन, आसन, पाद्य, अर्घ्य, आचमन, स्नान, पंचामृत स्नान, उद्वर्तन, वस्त्र-उपवस्त्र, गन्ध, सौभाग्य-सूत्र, अक्षत, हरिद्रा, कुंकुम, सिन्दूर, पुष्पमाला, धूप, दीप, नैवेद्य तथा फल, खीर व अपूप, ताम्बूल-329, दक्षिणा, पुष्पांजलि-330, नीराजन, दक्षिणा, अनुग्रह श्लोक- 331, क्षमा-प्रार्थना-332, कुछ विशेष।
23- दीप-दान-विधन
सामग्री एकत्राीकरण, समय, साधना हेतु तैयारी, संकल्प एवं जप।
24 श्री बगलामुखी हवन पद्धिति 
अग्नि-जिह्ना-आवाहन, राजसी जिह्ना-337, तामसी जिह्ना, सात्विक जिह्ना, अग्नि-नाम, दिशा-विधान, हवन कुण्ड- विधान-338, कर्म भेद से यज्ञ सामग्री-विधान-339, विशेष होम-प्रकरण, नवग्रह-चक्र-341, षोडशमातृका-चक्र, सप्तघृत- मातृका-चक्र-342, सर्वदेव पूजन-343, शेषनाग का मुख-344, आत्मशुद्धि, आसन शुद्धि, संकल्प-345, स्वस्तिवाचन-346, ब्राह्मण-पूजा-347, गणेश पूजन-348, कलश-पूजन, ओंकार पूजन-350, ब्रह्मपूजा, विष्णु पूजन-351, शिव पूजन, लक्ष्मी पूजन-352, षोडश मातृका-पूजन, वास्तु-पूजन-353, योगिनी- पूजन, इन्द्र-पूजन-354, वायु-पूजन, अग्नि-पूजन, धर्म-पूजन, यम-पूजन-355, सूर्य-पूजन, चन्द्र-पूजन-356, भौम-पूजन, बुध-पूजन-357, बृहस्पत्यावाहन, शुक्र-पूजन-358, शनि-पूजन, राहु-पूजन-359, केतु-पूजन-360, ऋषि-पूजन, दिग्रक्षण-361, बलिदान, बलि हेतु मुद्राएं: बटुक-365, योगिनी, क्षेत्रापाल, गणेश, भूत, बलि-विधान-366, प्रार्थना-368, कुछ विशेष।
25 प्रयोजन एवं हवन सामग्री
मूल मन्त्र प्रयोजन, हवन सामग्री, आहुति संख्या, चतुरक्षरी मन्त्र प्रयोग: चतुरक्षरी मन्त्र के हवनात्मक प्रयोग, प्रयोजन, हवन सामग्री, आहुति-संख्या/कुण्ड- भेद, समस्त दोषों की शान्ति, तर्पण-प्रयोग (प्रश्नोत्तर), तर्पण मात्रा से सर्वाभीष्ट प्राप्ति, तर्पण प्रयोग-विधान: उद्देश्य, तर्पण-संख्या, तर्पणीय द्रव्य, गुरु-परम्परात्मक विविध प्रयोग: सम्मोहन-383, शत्राु-विनाश, शत्राुनाश, विद्वताप्राप्ति, धनप्राप्ति, विद्वेषण, धनलाभ, वशीकरण, उच्चाटन, पुष्पार्पण-विधान (प्रश्नोत्तर), यन्त्र लेपन: प्रश्नोत्तर, द्रव्य, फल, अभिचार कर्म-निवारण, कृत्योपचार, कुछ विशेष।
26- श्री बगला उत्पत्ति
पार्वती-उवाच, शंकर-उवाच-389, दोहा-390।
27- आरती श्री पीताम्बरा
आरती-1, आरती-2, कुछ विशेष।
28 श्री बगलामुखी चालीसा 
दोहा, चैपाई, दोहा।
29 क्षमा याचना

Sri Pratyangira Sadhana Rahasya (Mantra Vidhaan Evam Prayog) Book

Sri Pratyangira Sadhana Rahasya (Mantra Vidhaan Evam Prayog) Book

माँ पीताम्बरा की अनुकम्पा से श्री प्रत्यंगिरा साधना रहस्य ग्रन्थ का प्रकाशन संभव हुआ। आशा ही नहीं अपितु पूर्ण विश्वास है कि यह आपके जीवन में आपका मार्गदर्शन करेगा।

Buy Pratyangira Sadhana Rahasya Online From Payumoney

Buy Pratyangira Sadhana Rahasya Online from Ebay

Buy Pratyangira Sadhana Rahasya Online form Amazon

Preview Sri Pratyangira Sadhana Rahasya (Mantra Vidhaan Evam Prayog)

If you want to purchase this book please deposit Rs 400/=(including courier charges) in below a/c –

Sumit Girdharwal
Axis Bank (Current Account)
912020029471298
IFSC Code – UTIB0001094

You can also pay via paytm – 9540674788
Send us receipt on sumitgirdharwal@yahoo.com or whatsapp on 9540674788

Read the rest of this entry

Baglamukhi Mantra Utkilan Vidhaan बगलामुखी मंत्र वृहत् उत्कीलन विधान

Baglamukhi Mantra Utkilan Vidhaan (बगलामुखी मंत्र वृहत् उत्कीलन विधान)

मंत्रों का दुरुपयोग रोकने के लिए कलियुग के प्रारम्भ में भगवान शिव ने सभी मंत्रों का कीलन (शापित) कर दिया था। तब माँ पार्वती के अनुग्रह करने पर उन्होंने मंत्रों को उत्कीलित करने का विधान भी प्रस्तुत किया ताकि सत्पात्र एवं अधिकारी साधक भी मंत्र की सिद्धि प्राप्त कर सकें। यही मंत्रोंत्कीलन-विधान मंत्र-उपासना के अंग के रूप में उत्कीलक कहे जाते हैं। इसलिए साधक को कवच आदि का पाठ करने से पूर्व उत्कीलन करना चाहिए।
For Mantra Diksha & Sadhana Guidance email us – sumitgirdharwal@yahoo.com or call us on 9410030994, 9540674788. For more information visit http://www.baglamukhi.info
Download Baglamukhi Utkeelan Utkilan Mantra Evam Keelak Stotra in Hindi

View Bagalamukhi Utkilan Mantra Vidhaan on Google

Read the rest of this entry

Chaur Ganesh Mantra चौर गणेश मंत्र

Chaur Ganesh Mantra चौर गणेश मंत्र
ganesha-mantra

तन्त्र-शास्त्र ‘वर्णविल’ के अनुसार चौर गणेश-मन्त्र का जप किए बिना कोई पूजा-कर्म नहीं करना चाहिए। इसमें स्पष्ट कहा गया है कि चौर मंत्रो को जाने बिना जो पुराण भी पढ़ता है, वह साक्षात् ‘कलि’ के समान होता है। वह पापी, चोर अथवा कुत्ते की योनि में जाता है। इस मंत्र का जप किए बिना यदि पूजा या जप कर्म किया जाए तो पूजा व पूजा के तेज का स्वयं गणेश हरण कर लेते हैं।
मनुष्य-देह में कुण्डलिनी कमल के प्रत्येक द्वार के पथ में पचास गण, देवताओं के ज्योतिरूप जो मुनिगण हैं, वे जम्हाई लेते हैं तथा प्रत्येक चक्र के कमलदल में स्थित होकर जप का तेज हरण कर लेते हैं। स्मरण रखें! जप-तप आदि में एक दिव्य तेज होता है, जहां-जहां ये तेजस्वी क्रियाएं होती हैं, वहां-वहां ये चौर गण होते हैं। इसलिए इनके प्रबोधन हेतु ये मंत्र पढ़े जाते हैं।

For Astrology, Mantra Diksha & Sadhana Guidance email us to shaktisadhna@yahoo.com or call us on 9410030994, 9540674788.

Download Chaur Ganesh Mantra चौर गणेश मंत्र Pdf

View Chaur Ganesh Mantra चौर गणेश मंत्र Pdf on Google

Read the rest of this entry

Vipreet Pratyangira Mantra Sadhana Evam Siddhi (श्री विपरीत प्रत्यंगिरा मंत्र साधना एवं सिद्धि )

Vipreet Pratyangira Mantra Sadhana Evam Siddhi (श्री विपरीत प्रत्यंगिरा मंत्र  साधना एवं सिद्धि )

यदि शत्रु निरंतर आप पर अभिचारिक कर्म कर रहा हो, निरंतर किसी न किसी रूप में आपको आर्थिक, मानसिक, सामाजिक, शारीरिक क्षति पहुंचा रहा हो और आपके भविष्य को चैपट कर रहा हो, तब भद्रकाली के इस स्वरूप, अर्थात विपरीत प्रत्यंगिरा का आश्रय लेना सर्वोत्तम उपाय है। जिस दिन से साधक इस महाविधा का प्रयोग आरम्भ करता है, उसी दिन से ही भगवती भद्र काली उसकी सुरक्षा करने लगती हैं और शत्रु द्वारा किये गये अभिचाारिक कर्म दोगुने वेग से उसी पर लौटकर अपना प्रहार करते हैं। इसके अतिरिक्त राजकीय बाधा, अरिष्ट ग्रह बाधा निवारण में तथा अपना खोया हुआ पद, आस्तित्व ओर गरिमा प्राप्ति में भी यह विद्या सर्वोत्तम मानी जाती है। साधक की आयु, यश तथा तेज की वृद्धि करने में भी यह विद्या बहुत उत्तम मानी जाती है।

A most powerful Mantra Sadhana to invoke Devi Pratyangira is given here. Vipreet Pratyangira Mantra Sadhna  is  used to destroy the mind of an enemy who is unnecessarily troubling and bent upon harming some innocent and helpless person. confuses the enemy by destroying  his harmful and destructive thinking and by confusing his mind. As always clarified such sadhnas should only be performed under the highly advanced practitioner (Your Guru) after mantra diksha.

For astrology, mantra diksha & sadhna guidance email to sumitgirdharwal@yahoo.comshaktisadhna@yahoo.com or call us on 9540674788, 9917325788 .

Read the rest of this entry

Baglamukhi Sarva Karya Siddhi Mantra बगलामुखी सर्वकार्य सिद्धि मंत्र

Baglamukhi Sarva Karya Siddhi Mantra बगलामुखी सर्वकार्य सिद्धि मंत्र

For astrology, mantra diksha & sadhana guidance email to shaktisadhna@yahoo.com or call us on 9540674788. For more information visit http://www.baglamukhi.info or http://www.yogeshwaranand.org

Read the rest of this entry

Sri Kali Pratyangira Sadhana Evam Siddhi

Sri Kali Pratyangira Sadhana Evam Siddhi

kali-pratyangira

इस विद्या का तीनों संध्याओं में पाठ करने वाला साधक समस्त बाधाओं तथा शत्रुओं से सुरक्षित रहता है। किसी भी प्रकार की कोई विपत्ति उसे व्याप्त नहीं करती। ‘अंगिरा’ ऋषि द्वारा प्रणीत यह विद्या निश्चय ही साधक की समस्त आपदाओं का नाश करने वाली एवं सभी ग्रहों की कुदृष्टि से उसे सुरक्षित बनाने वाली है।
यह विद्या उग्र है इसलिए दीक्षित साधक ही इसका पाठ करें।

 

 

For Mantra Diksha & Sadhana Guidance email to shaktisadhna@yahoo.com or call us on 9540674788 or 9917325788

Downloadd Sri Kali Pratyangira Sadhana Evam Siddhi in Hindi and Sanskrit Pdf

Read the rest of this entry

Baglamukhi Kavach ( बगलामुखी कवच )

Baglamukhi Kavach ( बगलामुखी कवच  )

मां बगलामुखी के प्रत्येक साधक को प्रतिदिन जाप प्रारम्भ करने से पहले इस कवच का पाठ अवश्य करना चाहिए । यदि हो सके तो सुबह दोपहर शाम तीनों समय इसका पाठ करें । यह कवच विश्वसारोद्धार तन्त्र से लिया गया है। पार्वती जी के द्वारा भगवान शिव से पूछे जाने पर भगवती बगला के कवच के विषय में प्रभु वर्णन करते हैं कि देवी बगला शत्रुओं के कुल के लिये जंगल में लगी अग्नि के समान हैं। वे साम्रज्य देने वाली और मुक्ति प्रदान करने वाली हैं।
भगवती बगलामुखी के इस कवच के विषय में बहुत कुछ कहा गया है। इस कवच के पाठ से अपुत्र को धीर, वीर और शतायुष पुत्र की प्राप्ति होति है और निर्धन को धन प्राप्त होता है। महानिशा में इस कवच का पाठ करने से सात दिन में ही असाध्य कार्य भी सिद्ध हो जाते हैं। तीन रातों को पाठ करने से ही वशीकरण सिद्ध हो जाता है। मक्खन को इस कवच से अभिमन्त्रित करके यदि बन्धया स्त्री को खिलाया जाये, तो वह पुत्रवती हो जाती है। इसके पाठ व नित्य पूजन से मनुष्य बृहस्पति के समान हो जाता है, नारी समूह में साधक कामदेव के समान व शत्रओं के लिये यम के समान हो जाता है। मां बगला के प्रसाद से उसकी वाणी गद्य-पद्यमयी हो जाती है । उसके गले से कविता लहरी का प्रवाह होने लगता है। इस कवच का पुरश्चरण एक सौ ग्यारह पाठ करने से होता है, बिना पुरश्चरण के इसका उतना फल प्राप्त नहीं होता। इस कवच को भोजपत्र पर अष्टगंध से लिखकर पुरुष को दाहिने हाथ में व स्त्री को बायें हाथ में धारण करना चाहिये

भगवती बगलामुखी की उपासना कलियुग में सभी कष्टों एवं दुखों से मुक्ति प्रदान करने वाली है। संसार में कोई कष्ट अथवा दुख ऐसा नही है जो भगवती पीताम्बरा की सेवा एवं उपासना से दूर ना हो सकता हो, बस साधकों को चाहिए कि धैर्य पूर्वक प्रतिक्षण भगवती की सेवा करते रहें।

(कृपया दीक्षित साधक ही इसका जप करें। जिनकी दीक्षा नही हुई है वो सबसे पहले दीक्षा ग्रहण करें )

Baglamukhi Kavach in Hindi

Read the rest of this entry

Baglamukhi Jayanti 3 May 2017 बगलामुखी जयंती

3 May 2017 (वैशाख शुक्ल अष्टमी) को देवी बगलामुखी जयंती  (अवतरण दिवस)  है। आप सभी को बगलामुखी जयंती की हार्दिक शुभकामनाएं।  आप माँ पीताम्बरा की कृपा से सदैव प्रसन्न रहें एवं भक्ति के मार्ग पर अग्रसर रहें यही माँ बगलामुखी से हमरी विनती है।  जय माता दी।

यह दिन सभी भक्तों के लिए एक विशेष महत्व रखता है और प्रत्येक भक्त ऐसे शुभ दिन पर माँ की अधिक से अधिक कृपा प्राप्त करना चाहता है।  यहाँ आपको बताते है कि कैसे आप भी माँ की उपासना कर उन्हें प्रसन्न कर सकते है।

For Astrology, Mantra Diksha & Sadhana Guidance email to sumitgirdharwal@yahoo.com or call us on 9410030994 (Sumit Girdharwal Ji).

Download Picture Image of Baglamukhi Mata

Baglamukhi Jayanti Pooja Vidhi (बगलामुखी जयंती पूजा विधि )

बगलामुखी जयंती की यह पूजा कोई भी व्यक्ति कर सकता है चाहे वह दीक्षित है अथवा नहीं।  यह पूजा आप सुबह में अथवा रात्रि में करें।  माँ बगलामुखी का एक नाम पीताम्बरा भी है,  इन्हें पीला रंग अति प्रिय है इसलिए इनके पूजन में पीले रंग की सामग्री का उपयोग सबसे ज्यादा होता है। पीले रंग का आसन  लेकर उत्तर अथवा पूर्व दिशा की ओर मुखे करके बैठ जाएं। अपने सामने माँ बगलामुखी का चित्र अथवा यन्त्र रख लें।  यदि आपके पास यह सामग्री नहीं है तो इस पूजा को आप माँ दुर्गा के चित्र के सामने भी कर सकते हैं।

गाय के शुद्ध घी , सरसो अथवा तिल के तेल से दीपक जलाएं।  सर्वप्रथम अपने गुरुदेव का ध्यान करें एवं गुरु मंत्र का जप करें। जिनके पास गुरु मंत्र नहीं है वो “ॐ श्री गुरुवे नमः” का ११ बार जप कर सकते है।  इसके पश्चात गणेश जी का ध्यान करके “ॐ गं गणपतये नमः” का जप करें।  इसके पश्चात भैरव जी से माँ बगलामुखी की पूजा करने की आज्ञा लें – ” हे ! भैरव भगवान् मैं माँ पीताम्बरा की पूजा करने जा रहा/रही हूँ, कृपया मुझे अनुमति प्रदान करें। ” ऐसा बोलकर भैरव जी का ध्यान करें।  इसके बाद माँ बगलामुखी का ध्यान करें एवं उनका आवाहन करें। माँ को पीला प्रसाद चढ़ाएँ जैसे बादाम, किशमिश, मौसमी फल अथवा जो आपका दिल करे ( एक बच्चा अपनी माता को प्रेम से जो भी अर्पित कर देगा, माता प्रेम से वही स्वीकार कर लेगी )। उन्हें पुष्प समर्पित करें। इसके पश्चात माँ बगलामुखी सहस्रनाम (१००० नाम ) का पाठ करें और यदि हो सके तो प्रत्येक नाम के साथ माँ को पीला पुष्प अथवा बादाम या किशमिश समर्पित करें। लेकिन ऐसा करने के लिए आपको माता का चित्र एक बड़े थाल अथवा बड़े कपडे पर रखना होगा ताकि सामग्री बाहर जमीन पर न गिरे। जिनके पास कम समय है वो बगलामुखी अष्टोत्तर शतनाम (१०८ नाम ) का पाठ भी कर सकते है।  ये पाठ आप हमारी वेबसाइट से डाउनलोड कर सकते हैं जिनका लिंक हम निचे दे रहे हैं। आप जितना अधिक पूजा करना चाहे आप कर सकते हैं लेकिन ज्यादा न कर सको तो कम से कम माँ को प्रेम से एक पुष्प जरूर चढ़ा देना।

Read the rest of this entry

Baglamukhi Pratyangira Kavach बगला प्रत्यंगिरा कवच

Baglamukhi Pratyangira Kavach बगला प्रत्यंगिरा कवच

pitambara

इस कवच के पाठ से वायु भी स्थिर हो जाती है। शत्रु का विलय हो जाता है। विद्वेषण, आकर्षण, उच्चाटन, मारण तथा शत्रु का स्तम्भन भी इस कवच के पढ़ने से होता है। बगला प्रत्यंगिरा सर्व दुष्टों का नाश करने वाली, सभी दुःखो को हरने वाली, पापों का नाश करने वाली, सभी शरणागतों का हित करने वाली, भोग, मोक्ष, राज्य और सौभाग्य प्रदायिनी तथा नवग्रहों के दोषों को दूर करने वाली हैं। जो साधक इस कवच का पाठ तीनों समय अथवा एक समय भी स्थिर मन से करता है, उसके लिए यह कल्पवृक्ष के समान है और तीनों लोकों में उसके लिए कुछ भी दुर्लभ नहीं है। साधक जिसकी ओर भरपूर दृष्टि से देख ले, अथवा हाथ से किसी को छू भर दे, वही मनुष्य दासतुल्य हो जाता है।
इस कवच के पाठ से भयंकर से भयंकर तंत्र प्रयोग को भी नष्ट किया जा सकता है लेकिन इसका पाठ केवल बगलामुखी में दीक्षित साधक ही कर सकते हैं। बिना गुरू आज्ञा के इसका पाठ नही करना चाहिए।

The recitation of baglamukhi pratyangira kavacham (armor) can stall even the wind, enemies get destroyed. This kavacham can bring any attempt of the enemy to a still. This kavacham destroys all the enemies, ends all sorrows & sins, mitigates the ill-effects of the planetary positions in horoscope, protects the devotees and bestows wealth, kingdom (fame) & fortune. This kavacham is like a wish-fulfilling tree to the devotee who chants this kavacham three times a day or at least once daily with concentration, there is nothing unattainable for him. Any person, who is touched by the devotee or even glanced by him, becomes a slave to the devotee.

This amour destroys even the most invincible spells cast by enemies. But, this should be chanted only after obtaining the deeksha and initiation from a preceptor (Guru).

For Mantra Diksha & Sadhana guidance email to shaktisadhna@yahoo.com or call us on 9410030994, 9540674788. For more information visit http://www.baglamukhi.info orhttp://www.yogeshwaranand.org

Baglamukhi Pratyangira Kavach in Hindi Pdf Free Download Secret and Powerful Tantra

Download Bhagwati Baglamukhi Sarva Jana Vashikaran Mantra in Hindi and English Pdf

Read the rest of this entry

Bhagwati Baglamukhi Sarva Jana Vashikaran Mantra in Hindi and English भगवती बगलामुखी सर्वजन वशीकरण मंत्र

Bhagwati Baglamukhi Sarva Jana Vashikaran Mantra in Hindi and English भगवती बगलामुखी सर्वजन वशीकरण मंत्र

maa-pitambra-aadi-shakti

For Mantra Diksha & Sadhana guidance email to shaktisadhna@yahoo.com or call us on 9410030994, 9540674788. For more information visit http://www.baglamukhi.info or http://www.yogeshwaranand.org

मां बगलामुखी को सामान्यतः सभी लोग शत्रुओं का नाश करने वाली, उनकी गति, मति, बुद्धि का स्तम्भन करने वाली, मुकदमे एवं चुनाव आदि में विजय दिलाने वाली शक्ति के रूप में जानते हैं। लेकिन यह बात केवल कुछ ही लोग जानते हैं कि वे जगत का वशीकरण भी करने वाली हैं। यदि उनकी कृपा प्राप्त हो जाये तो साधक की ओर सभी आकर्षित होने लगते हैं, वह जंहा बोलता है, वंही उसे सुनने को जन समूह उमड़ पड़ता है। उसका दायरा बहुत व्यापक हो जाता है। कोई भी स्त्री, पुरूष, बच्चा उसके आकर्षण में ऐसा बंध जाता है कि अपनी सुध-बुध खो बैठता है और वही करने के लिए विवश हो जाता है, जो साधक चाहता है।
इस साधन को करने के लिए अति गोपनीय मंत्र का उल्लेख मैं यंहा साधकों के लिए कर रहा हॅू, लेकिन साधक सदैव स्मरण रखें कि ऐसी साधनाओं का दुष्प्रयोग कभी नहीं करना चाहिए अन्यथा साधक की साधना क्षीण होने लगती है। मंत्र का प्रयोग सदैव समाज कल्याण के लिए करना चाहिए, न कि समाज-विरोधी गतिविधियों के लिए ।
सर्वप्रथम भगवती बगलामुखी की मंत्र दीक्षा ग्रहण करें उसके पश्चात गुरू आज्ञानुसार साधना करें

Download Bhagwati Baglamukhi Sarva Jana Vashikaran Mantra in Hindi and English Pdf

Read the rest of this entry

Pushp Kinnari Sadhana Evam Mantra Siddhi पुष्प किन्नरी साधना एवं मंत्र सिद्धि

Pushp Kinnari Sadhana Evam Mantra Siddhi  पुष्प किन्नरी साधना एवं मंत्र  सिद्धि

Pushp kinnari sadhana Evam Mantra siddhi in Hindi Pdf

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

प्रत्येक व्यक्ति की आकांक्षा होती है कि उसका व्यक्तित्व आकर्षण से भरा हुआ हो; प्रत्येक व्यक्ति उसकी ओर मुड़-मुड़ कर देखे, प्रत्येक व्यक्ति उसकी ओर चुम्बक के समान खिंचा चला आए। वह चाहता है कि उसका प्रभाव ऐसा हो, जो प्रत्येक व्यक्ति को अपने आकर्षण के बंधन में बांध ले और कोई उससे मुक्त न हो सके।
यदि किसी भी व्यक्ति में ऐसा आकर्षण हो तो ऐसा हो ही नहीं सकता कि वह किसी भी क्षेत्र में असफल हो जाए। ऐसे व्यक्ति को हर क्षेत्र में सफलता प्राप्त होती है। ऐसे व्यक्तित्व वाला व्यक्ति जो भी करेगा लोग उसका अनुसरण करेंगें, उसकी प्रत्येक बात पर एक विषेष ध्यान देंगें, उसकी प्रत्येक बात मानने को उत्सुक रहेंगे। ऐसा ही आकर्षण प्रदान करने वाली साधना का उल्लेख मैं यंहा कर रहा हॅॅू, जिसका नाम हेै पुष्प किन्नरी साधना ।

For mantra diksha & sadhana guidance email to shaktisadhna@yahoo.com or call us on 9410030994 or 9540674788. For more information visit http://www.baglamukhi.info or http://www.yogeshwaranand.org

Pushp Kinnari Sadhana Evam Mantra Siddhi in Hindi

Read the rest of this entry

Ma Baglamukhi Unnisakshara Mantra (Bhakt Mandaar Mantra for Money & Wealth)

Ma Baglamukhi Unnisakshara Mantra Sadhana Vidhi (Bhakt Mandaar Mantra for Money & Wealth)

maa-pitambra-aadi-shakti

For Ma Baglamukhi Mantra Diksha & Sadhana Guidance email to sumitgirdharwal@yahoo.com, shaktisadhna@yahoo.com or call us on 9410030994/9540674788. For more information visit http://www.baglamukhi.info or http://www.yogeshwaranand.org

भगवती बगलामुखी की उपासना कलियुग में सभी कष्टों एवं दुखों से मुक्ति प्रदान करने वाली है। संसार में कोई कष्ट अथवा दुख ऐसा नही है जो भगवती पीताम्बरा की सेवा एवं उपासना से दूर ना हो सकता हो, बस साधकों को चाहिए कि धैर्य पूर्वक प्रतिक्षण भगवती की सेवा करते रहें।

भगवती बगलामुखी का यह भक्त मंदार मंत्र साधकों की हर मनोकामनां पूर्णं करने वाला है। इस मंत्र का विशेष प्रभाव यह है कि इसे करने वाले साधक को कभी भी धन का अभाव नही होता। भगवती की कृपा से वह सभी प्रकार की धन सम्पत्ति का स्वामी बन जाता है।  आज के युग में धन के अभाव में व्यक्ति का कोई भी कार्य पूर्ण नही होता। धन का अभाव होने पर ना ही उसका कोई मित्र होता है और ना ही समाज में उसे सम्मान प्राप्त होता है। इस मंत्र के प्रभाव से धीरे-धीरे साधक को अपने सभी कार्यो में सफलता मिलनी प्रारम्भ  हो जाती है एवं धन का आगमन होना प्रारम्भ हो जाता है।

ऐसा भी देखने में आता है कि कुछ लोग धन तो बहुत अधिक कमातें हैं लेकिन उनके पास बचता कुछ भी नही है, बिना वजह उनके धन का नाश होता है। ऐसे लोगो की जब हम कुण्डली देखते हैं तो षष्ठ(कर्ज) एवं द्वादश (व्यय) भाव शुभ ग्रहों द्वारा प्रभावित होते हैं अथवा एकादश (लाभ) भाव का स्वामी द्वादश (व्यय) भाव में अथवा द्वादश भाव के स्वामी के प्रभाव में होता है, जिस कारण वो जितना भी धन कमाते हैं उतना ही किसी ना किसी रूप में व्यय हो जाता है।

भगवती पीताम्बरा इस सम्पूर्ण ब्रह्माण्ड को चलाने वाली शक्ति हैं। नवग्रहों को भगवती के द्वारा ही विभिन्न कार्य सौपे गये हैं जिनका वो पालन करते हैं। नवग्रह स्वयं भगवती की सेवा में सदैव उपस्थित रहते हैं। जब साधक भगवती की उपसना करता है तो उसे नवग्रहों की विशेष कृपा प्राप्त होती है। यदि साधक को उसके कर्मानुसार कहीं पर दण्ड भी मिलना होता है तो वह दण्ड भी भगवती की कृपा से न्यून हो जाता है एवं जगदम्बा अपने प्रिय भक्त को इतना साहस प्रदान करती हैं कि वह दण्ड साधक को प्रभवित नही कर पाता। इस सम्पूर्ण ब्रह्माण्ड में कोई भी इतना शक्तिवान नही है जो जगदम्बा कें भक्तो का एक बाल भी बांका कर सके। कहने का तात्पर्य यह है कि कारण चाहें कुछ भी हो भगवती बगलामुखी की उपासना आपको किसी भी प्रकार की समस्या से मुक्त करा सकती है।

मां की कृपा को वही जान पाया है जो उनकी शरण में गया है, इसीलिए अपने शब्दों को यही पर विराम देते हुए मां भगवती से प्रार्थना करता हूं कि आप सभी को भगवती अपनी शरण प्रदान करें एवं आपका कल्याण करे।

Download Baglamukhi Bhakt Mandaar Mantra for Wealth & Money PDF भक्त मंदार विद्या

माँ  आप बगलामुखी साधना से सम्बंधित अन्य जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो गुरुदेव श्री योगेश्वरानंद द्वारा लिखित पुस्तक बगलामुखी साधना और सिद्धि एवं षट्कर्म विधान अवश्य पढ़े।

Read the rest of this entry

Baglamukhi (Pitambara ) Ashtakshari Mantra Sadhana Evam Siddhi in Hindi | Sarva Karya Siddhi Ma Baglamukhi Mantra

Baglamukhi (Pitambara ) Ashtakshari Mantra Sadhana Evam Siddhi in Hindi ( Sarva Karya Siddhi Ma Baglamukhi Mantra )

Devi Pitambara Peeth Photo

।। भगवती पीताम्बरा के अष्टाक्षर मंत्र का महात्म्य ।।

भगवती बगलामुखी (पीताम्बरा ) के इस मंत्र का अनुष्ठान चतुराक्षर मंत्र के अनुष्ठान के बाद किया जाता हैा भगवती का यह मंत्र बहुत ही प्रभावशाली एवं चमत्कारी हैा इसकी महिमा को बताने के लिए अपने एक शिष्य के अनुभव को यहां लिख रहा हूं –
मेरे एक शिष्य को बहुत प्रयास करने के बाद भी कहीं कोई नौकरी नही मिल रही थी। बहुत अच्छी डिग्रियां हाने के बाद भी सभी जगह से उसे निराशा ही हाथ लग रही थी। तब मैनें उसे इस मंत्र का एक अनुष्ठान करने को कहा । उसने विधिवत अनुष्ठान शुरू किया और एक सप्ताह बाद ही उसका बहुत बड़ी कम्पनी में चयन हो गया।
यह तो बस एक छोटा सा अनुभव है। इसके अलावा ऐसे बहुत सारे लोग हैं जिन्हें प्रेत बाधा, शत्रु बाधा, नौकरी, पारिवार में कलह, व्यवसाय में असफलता, विवाह, संतान ना होना, आदि समस्याओं में ऐसे परिणाम मिले हैं कि कोई साधारण मनुष्य तो विश्वास भी नही करेगा।
साधको के हितार्थ भगवती के अष्ठाक्षर मंत्र का विधान दे रहा हूं –
(कृपया दीक्षित साधक ही इसका जप करें। जिनकी दीक्षा नही हुई है वो सबसे पहले दीक्षा ग्रहण करें )

For Mantra Diksha & Sadhana guidance email to shaktisadhna@yahoo.com or call us on 9410030994 or 9540674788

Download Baglamukhi Ashtakshar Mantra Sadhana in Hindi

Please Click Here to Subscribe for Monthly Magazine on Mantra Tantra Sadhana

Read the rest of this entry

Chinnamasta Mantra Sadhana Evam Siddhi in Hindi

Chinnamasta Mantra Sadhana Evam Siddhi in Hindi

For mantra diksha & sadhana guidance email to shaktisadhna@yahoo.com or call us on 9410030994, 9540674788. For more information visit http://www.baglamukhi.info or http://www.yogeshwaranand.org

Chinnamasta Mantra Sadhana Evam Siddhi In Hindi Image

छिन्नमस्ता दशमहाविद्याओं में षष्ठी महाविद्या हैं। इनका दूसरा नाम ‘प्रचण्ड चण्डिका’ भी हैं। हिरण्यकश्यपु और वैरोचन का मनोरथ पूर्ण करने वाली होने से वज्रवैरोचनीया भी कहलाती हैें।
योगियों के लिए इनकी साधना सर्वश्रेष्ठ है। जो साधक कुण्डलिनी जागरण करना चाहते हैं उन्हें यह साधना गुरू मार्गदर्शन में अवश्य करनी चाहिए।

Chinnamasta Mantra Sadhana Evam Siddhi in Hindi

Please Click Here to Subscribe for Free of Cost Monthly Magazine on Mantra Tantra Sadhana

Read the rest of this entry

Baglamukhi Chaturakshar Mantra Evam Pooja Vidhi in Hindi Pdf बगलामुखी (पीताम्बरा) चतुरक्षर मंत्र

Baglamukhi Chaturakshar Mantra Evam Pooja Vidhi in Hindi Pdf बगलामुखी (पीताम्बरा) चतुरक्षर मंत्र

भगवती बगलामुखी (पीताम्बरा) के इस मंत्र का अनुष्ठान बीज मंत्र  ( हल्रीं )  के अनुष्ठान के बाद किया जाता हैा ऐसा देखा गया है कि बीज मंत्र का अनुष्ठान तो साधक बिना किसी समस्या के कर लेते हैं, लेकिन चतुरक्षर के अनुष्ठान में उन्हें थोड़ी समस्या का सामना करना पड़ता है। समस्या से यहां तात्पर्य भगवती द्वारा ली जाने वाली परीक्षा से है। इस मंत्र में कई बार ऐसी परिस्थिति पैदा हो जाती है कि आपका अनुष्ठान बीच में ही छूट जाये, जैसे कहीं अचानक बाहर जाना पड़ जाये अथवा किसी काम में इतनी अधिक व्यस्तता हो जाये कि उस दिन के निर्धारित जप करने का समय ना मिले इत्यादि, लेकिन साधको को किसी भी परिस्थिति में किसी भी दिन जप नही छोड़ना है । यदि किसी कारण वश बाहर जाना भी पड़ भी जाये तो वही पर जाकर अपना जप पूर्ण करें एवं भगवती से क्षमा प्रार्थना करें । यदि आपने यह अनुष्ठान एक बार पूर्ण कर लिया तो भगवती की कृपा को प्राप्त करने से आपको कोई नही रोक सकता । भगवती पर विश्वास रखें एवं नियमित रूप से अपना जप करते रहें, आपको सफलता अवश्य मिलेगी ।

For astrology, mantra diksha & sadhna guidance email to sumitgirdharwal@yahoo.com, shaktisadhna@yahoo.com or call us on 9917325788 (Shri Yogeshwaranand Ji). For more information visit http://www.baglamukhi.info or http://www.yogeshwaranand.org

Read the rest of this entry

Baglamukhi Pitambara Ashtottar Shatnam Stotram in Hindi and Sanskrit with Audio Mp3

Baglamukhi Pitambara Ashtottar Shatnam Stotram in Hindi and Sanskrit with Audio Mp3

For astrology, mantra diksha & sadhna guidance email to sumitgirdharwal@yahoo.com, shaktisadhna@yahoo.com or call us on 9410030994 or 9540674788 (Sumit Girdharwal Ji). For more information visit http://www.baglamukhi.info or http://www.yogeshwaranand.org

भगवती पीताम्बरा के भक्तों को प्रतिदिन मंत्र जप करने के पश्चात मां के अष्टोत्तर-शतनाम का पाठ करना चाहिए । इसके पाठ से भगवती की विशेष कृपा प्राप्त होती हैा जिन साधको ने भगवती पीताम्बरा की दीक्षा अभी तक प्राप्त नही की है वो सर्वप्रथम गुरू मुख से दीक्षा लें एवं उसी के पश्चात पाठ करें।

साधना को आरम्भ करने से पूर्व एक साधक को चाहिए कि वह मां भगवती  की उपासना अथवा अन्य किसी भी देवी या देवता की उपासना निष्काम भाव से करे। उपासना का तात्पर्य सेवा से होता है। उपासना के तीन भेद कहे गये हैं:- कायिक अर्थात् शरीर से , वाचिक अर्थात् वाणी से और मानसिक- अर्थात् मन से।  जब हम कायिक का अनुशरण करते हैं तो उसमें पाद्य, अर्घ्य, स्नान, धूप, दीप, नैवेद्य आदि पंचोपचार पूजन अपने देवी देवता का किया जाता है। जब हम वाचिक का प्रयोग करते हैं तो अपने देवी देवता से सम्बन्धित स्तोत्र पाठ आदि किया जाता है अर्थात् अपने मुंह से उसकी कीर्ति का बखान करते हैं। और जब मानसिक क्रिया का अनुसरण करते हैं तो सम्बन्धित देवता का ध्यान और जप आदि किया जाता है।
जो साधक अपने इष्ट देवता का निष्काम भाव से अर्चन करता है और लगातार उसके मंत्र का जप करता हुआ उसी का चिन्तन करता रहता है, तो उसके जितने भी सांसारिक कार्य हैं उन सबका भार मां स्वयं ही उठाती हैं और अन्ततः मोक्ष भी प्रदान करती हैं। यदि आप उनसे पुत्रवत् प्रेम करते हैं तो वे मां के रूप में वात्सल्यमयी होकर आपकी प्रत्येक कामना को उसी प्रकार पूर्ण करती हैं जिस प्रकार एक गाय अपने बछड़े के मोह में कुछ भी करने को तत्पर हो जाती है। अतः सभी साधकों को मेरा निर्देष भी है और उनको परामर्ष भी कि वे साधना चाहे जो भी करें, निष्काम भाव से करें। निष्काम भाव वाले साधक को कभी भी महाभय नहीं सताता। ऐसे साधक के समस्त सांसारिक और पारलौकिक समस्त कार्य स्वयं ही सिद्ध होने लगते हैं उसकी कोई भी किसी भी प्रकार की अभिलाषा अपूर्ण नहीं रहती ।
मेरे पास ऐसे बहुत से लोगों के फोन और मेल आते हैं जो एक क्षण में ही अपने दुखों, कष्टों का त्राण करने के लिए साधना सम्पन्न करना चाहते हैं। उनका उद्देष्य देवता या देवी की उपासना नहीं, उनकी प्रसन्नता नहीं बल्कि उनका एक मात्र उद्देष्य अपनी समस्या से विमुक्त होना होता है। वे लोग नहीं जानते कि जो कष्ट वे उठा रहे हैं, वे अपने पूर्व जन्मों में किये गये पापों के फलस्वरूप उठा रहे हैं। वे लोग अपनी कुण्डली में स्थित ग्रहों को देाष देते हैं, जो कि बिल्कुल गलत परम्परा है। भगवान शिव ने सभी ग्रहों को यह अधिकार दिया है कि वे जातक को इस जीवन में ऐसा निखार दें कि उसके साथ पूर्वजन्मों का कोई भी दोष न रह जाए। इसका लाभ यह होगा कि यदि जातक के साथ कर्मबन्धन शेष नहीं है तो उसे मोक्ष की प्राप्ति हो जाएगी। लेकिन हम इस दण्ड को दण्ड न मानकर ग्रहों का दोष मानते हैं।

Download Baglamukhi Pitambara Ashtottar Shatnam Stotram Pdf in Hindi and Sanskrit

Read the rest of this entry

Very Powerful Hanuman Mantra Sadhna and Maruti Kavach

Very Powerful Hanuman Mantra Sadhna and Maruti Kavach
For astrology, mantra diksha & sadhna guidance email to sumitgirdharwal@yahoo.com, shaktisadhna@yahoo.com or call us on 9917325788 (Shri Yogeshwaranand Ji). For more information visit http://www.baglamukhi.info or http://www.yogeshwaranand.org
भगवान शिव के ग्यारहवे रुद्रावतार हनुमानजी कलियुग के जाग्रत देवता हैं जो शीघ्र ही अपने भक्तों पर कृपा करते हैं, लेकिन बस आवश्यकता है सही विधि से उनकी साधना करने की ।
हनुमान जी ने जिस प्रकार श्री राम जी के समस्त कार्योे को सम्पन्न किया था उसी प्रकार वो अपने भक्तों के सभी कार्यो को सम्पन्न करते हैं।
हनुमान उपासना से साधक समस्त विघ्न व्याधियों पर विजय प्राप्त कर सकता है। हनुमान जी को नवग्रहों ने वरदान दिया था कि वो उनके भक्तों को कभी भी परेशान नही करेगें इसीलिए शनि-राहु आदि ग्रहों की महादशा में इनकी साधना से बहुत अधिक लाभ मिलता है। शनि देव के गुरू भगवान शिव हैं एवं हनुमान जी भगवान शिव के अवतार, इसीलिए शनिदेव शिव भक्तों एवं हनुमान भक्तों पर विशेष कृपा करते हैं।
प्रस्तुत हनुमत् मंत्र बहुत ही प्रभावशाली है जिसेे श्रीकृष्ण ने महाभारत काल में अर्जुन को प्रदान किया था। इसी मंत्र के प्रभाव से अर्जुन ने अजेय योद्धाओं पर विजय प्राप्त की थी। इस मंत्र के प्रभाव से साधक जन किसी भी प्रकार की तंत्रबाधा, रोग, शत्रुबाधा, नजर, कोर्ट-कचहरी एवं अन्य संकटों से मुक्ति प्राप्त कर सकता है।

Read the rest of this entry

Param Devi Sukta of Ma TripuraSundari ( Mantras and Stotras for Money and Wealth)

Param Devi Sukta of Ma TripuraSundari ( Mantras and Stotras for Money and Wealth)

For astrology, mantra diksha & sadhna guidance email to sumitgirdharwal@yahoo.com, shaktisadhna@yahoo.com or call us on 9917325788 (Shri Yogeshwaranand Ji). For more information visit http://www.baglamukhi.info or http://www.yogeshwaranand.org

भगवती महात्रिपुर सुन्दरी का यह स्तोत्र अत्यन्त ही गोपनीय एवं प्रमाणित है, लेकिन यह गुरू-गम्य है। अर्थात् गुरू-मुख से प्राप्त करने के उपरान्त ही यह फलदायी होता है। यदि इस सूक्त का पाठ निरंतर तीन सालों तक किया जाये तो निश्चित रूप से साधक को भगवती त्रिपुर सुंदरी का साक्षात्कार होता है। इस स्तोत्र का नित्य पाठ करने वाला साधक समस्त सिद्धियों का स्वामी, सर्वत्र विजय प्राप्त करने वाला एवं संसार को वश में करने वाला हो जाता है। धन एवं सभी ऐश्वर्य उसके दास हो जाते हैं। उसकी जिह्वा पर साक्षात मां सरस्वती का निवास हो जाता है। उपरोक्त समस्त इच्छाएं रखने वाले साधक को चाहिए कि वह श्री गुरू-चरणों में बैठकर इस स्तोत्र को प्रयत्नपूर्वक प्राप्त करे । जो साधक श्री विद्या में दीक्षित नही हैं वो सर्वप्रथम श्री विद्या की दीक्षा अपने गुरूदेव से प्राप्त करें ।

श्री विद्या ललिता त्रिपुर सुन्दरी धन, ऐश्वर्य, भोग एवं मोक्ष की अधिष्ठाता देवी हैं। अन्य विद्याओं की उपासना मंत या तो भोग मिलता है या फिर मोक्ष, लेकिन श्री विद्या का उपासक जीवन पर्यन्त सारे ऐश्वर्य भोगते हुए अन्त में मोक्ष को प्राप्त करता है। इनकी उपासना तंत्र शास्त्रों में अति रहस्यमय एवं गुप्त रूप से प्रकट की गयी है। पूर्व जन्म के विशेष संस्कारों के बलवान होने पर ही इस विद्या की दीक्षा का योग बनता है। ऐसे बहुत ही कम लोग होते हैं जिन्हे इस जीवन में यह उपासना करने का सौभाग्य प्राप्त होता है। मुख्य रूप से इनके तीन स्वरूपों की पूजा होती है। प्रथम आठ वर्षीया स्वरूप बाला त्रिपुरसुन्दरी, द्वितीय सोलह वर्षीया स्वरूप षोडशी, तृतीय युवा अवस्था स्वरूप ललिता त्रिपुरसुन्दरी। श्री विद्या साधना में क्रम दीक्षा का विधान है एवं सर्वप्रथम बाला सुन्दरी के मंत्र की दीक्षा साधको को दी जाती है। यदि आप ये साधना करना चाहते हैं तो हमसे सम्पर्क कर सकते है।
हमारे शास्त्रों में करोड़ो मंत्र हैं लेकिन हर मंत्र आपके लिए सही नही है। शिष्य के लिए कौन सा मंत्र सही है इसका निर्णय केवल गुरू ही कर सकता है। इसलिए आप केवल अपने आप को गुरू को समर्पित कर दीजिए, इसके बाद गुरू स्वयं आपको सही राह दिखायेगा।

Read the rest of this entry

Pashupatastra Mantra Sadhana Evam Siddhi in Hindi & Sanskrit पाशुपतास्त्र मंत्र साधना एवं सिद्धि

Pashupatastra Mantra Sadhana Evam Siddhi in Hindi & Sanskrit  ( पाशुपतास्त्र मंत्र साधना एवं सिद्धि )

For astrology, mantra diksha & sadhna guidance email to sumitgirdharwal@yahoo.com, shaktisadhna@yahoo.com or call us on 9410030994 or 9540674788. For more information visit http://www.baglamukhi.info or http://www.yogeshwaranand.org

Lord Shiva & Shakti ( Ardhanarishwar form)

शिव का एक भीषण शूलास्त्र जिसे अर्जुन ने तपस्या करके प्राप्त किया था।  महाभारतका युद्ध हुआ, उसमें भगवान्‌ शंकरका दिया हुआ पाशुपतास्त्र अर्जुनके पास था, भगवान्‌ शंकरने कह दिया कि तुम्हें चलाना नहीं पड़ेगा । यह तुम्हारे पास पड़ा-पड़ा विजय कर देगा, चलानेकी जरूरत नहीं, चला दोगे तो संसारमें प्रलय हो जायगा । इसलिये चलाना नहीं ।

इस पाशुपत स्तोत्र का मात्र एक बार जप करने पर ही मनुष्य समस्त विघ्नों का नाश कर सकता है । सौ बार जप करने पर समस्त उत्पातो को नष्ट कर सकता है तथा युद्ध आदि में विजय प्राप्त कर सकता है । इस मंत्र का घी और गुग्गल से हवं करने से मनुष्य असाध्य कार्यो को पूर्ण कर सकता है । इस पाशुपातास्त्र मंत्र के पाठ मात्र से समस्त क्लेशो की शांति हो जाती है ।

यह अत्यन्त प्रभावशाली व शीघ्र फलदायी प्रयोग है। यदि मनुष्य इस स्तोत्र का पाठ गुरू के निर्देशानुसार संपादित करे तो  अवश्य फायदा मिलेगा। शनिदेव शिव भक्त भी हैं और शिव के शिष्य भी हैं। शनि के गुरु शिव होने के कारण इस अमोघ प्रयोग का प्रभाव और अधिक बढ़ जाता है। यदि किसी साधारण व्यक्ति के भी गुरु की कोई आवभगत करें तो वह कितना प्रसन्न होता है। फिर शनिदेव अपने गुरु की उपासना से क्यों नहीं प्रसन्न होंगे। इस स्तोत्र के पाठ से भगवान शिव शीघ्र प्रसन्न होते हैं और शिव की प्रसन्नता से शनिदेव खुश होकर संबंधित व्यक्ति को अनुकूल फल प्रदान करते हैं। साथ ही एक विशेषता यह भी परिलक्षित होती है कि संबंधित व्यक्ति में ऐसी क्षमता आ जाती है कि वह शनिदेव के द्वारा प्राप्त दण्ड भी बड़ी सरलता से स्वीकार कर लेता है। साथ ही वह अपने जीवन में ऐसा कोई अशुभ कर्म भी नहीं करता जिससे उस पर शनिदेव भविष्य में भी नाराज हों।

यह किसी भी कार्य के लिए अमोघ राम बाण है। अन्य सारी बाधाओं को दूर करने के साथ ही युवक-युवतियों के लिए यह अकाटय प्रयोग माना ही नहीं जाता अपितु इसका अनेक अनुभूत प्रयोग किया जा चुका है। जिस वर या कन्या के विवाह में विलंब होता है, यदि इस पाशुपत-स्तोत्र का प्रयोग करें तो निश्चित रूप से शीघ्र ही उन्हें दाम्पत्य सुख का लाभ मिलता है। केवल इतना ही नहीं, अन्य सांसारिक कष्टों को दूर करने के लिए भी पाठ या जप, हवन, तर्पण, मार्जन आदि करने से अभीष्ट फल की प्राप्ति होती है।

For Astrology, Mantra Diksha & Sadhna Guidance email to sumitgirdharwal@yahoo.com or call us on 9410030994, 9540674788. For information visit http://www.baglamukhi.net or http://www.yogeshwaranand.org

Download Pashupatastra Mantra Sadhana Evam Siddhi  Pdf in Hindi & Sanskrit

Please Click Here to Subscribe for Monthly Magazine on Mantra Tantra Sadhana

Read the rest of this entry

Sarva Karya Siddhi Saundarya Lahri Mantra Prayoga समस्त कार्यों की सिद्धि हेतु सौन्दर्यलहरी के कुछ विशिष्ट प्रयोग

Sarva Karya Siddhi Saundarya Lahri Mantra Prayoga  ( समस्त कार्यों की सिद्धि हेतु सौन्दर्यलहरी के कुछ विशिष्ट प्रयोग )

For astrology, mantra diksha & sadhna guidance email to sumitgirdharwal@yahoo.com, shaktisadhna@yahoo.com or call us on 9917325788 (Shri Yogeshwaranand Ji). For more information visit http://www.baglamukhi.info or http://www.yogeshwaranand.org

आदिगुरू भगवत्पाद शंकराचार्य ने सौन्दर्य लहरी नामक ग्रन्थ में मां त्रिपुरसुन्दरी के स्वरूप का बहुत ही सुन्दर वर्णन किया है। उनके अनिवर्चनीय स्वरूप का वर्णन करने के लिए ही उन्होंने सौन्दर्य लहरी ग्रन्थ की रचना की जिसमें उन्होंने बहुत ही सुन्दर ढंग से मां की स्तुति की है। वास्तव में इसके दो खण्ड हैं…..आनन्द लहरी और सौन्दर्य लहरी। इन दोनों को एकत्र करके ही सौन्दर्य लहरी का नाम दिया गया है। इसमें प्रस्तुत स्तुति बहुत ही प्रभावी और रहस्यों से परिपूर्ण है। इससे कई साधनांए एवं ऐसे प्रयोग सिद्ध होते हैं, जो मानव जीवन के लिए अत्यन्त ही महत्वपूर्ण हैं।

भगवती त्रिपुर सुन्दरी की इस स्तुति से साधकों को अत्यन्त ही सुख, शांति एवं परम ज्ञान की प्राप्ति होती है। उस परम शक्ति के प्रकाश से सम्पूर्ण जगत प्रकाशमान है। यन्त्र, मन्त्र एवं तन्त्र के माध्यम से हम उनकी उपासना बाह्य रूप में करते हैं।

यंहा भी मैं कुछ ऐसे प्रयोग दे रहा हूँ जिनमें मन्त्र एवं यन्त्र का प्रयोग किया गया है। इन दोनों के माध्यम से हम अपने जीवन की बहुत सी समस्याओं का समाधान भगवती की कृपा से कर सकते हैं। यन्त्रों की उत्पत्ति भगवान शिव के ताण्डव नृत्य से मानी जाती है। मन्त्रों के साथ यन्त्रों का प्रयोग आदि काल से होता रहा है। अतः साधक दोनों का प्रयोग करें।

नोट – केवल श्री विद्या में दीक्षित साधक ही यह प्रयोग करें अथवा सर्वप्रथम श्री विद्या की दीक्षा प्राप्त करें।

Read the rest of this entry

Shri Lalita Tripura Sundari Khadgamala Stotram in Sanskrit & Hindi श्री विद्या ललिता खड्गमाला स्तोत्र

Shri Lalita Tripura Sundari Khadgamala Stotram in Sanskrit & Hindi श्री विद्या ललिता खड्गमाला स्तोत्र
For astrology, mantra diksha & sadhna guidance email to sumitgirdharwal@yahoo.com, shaktisadhna@yahoo.com or call us on 9540674788 (Sumit Girdharwal Ji) or 9917325788 (Shri Yogeshwaranand Ji). For more information visit http://www.baglamukhi.info or http://www.yogeshwaranand.org
किसी भी देवता की खड्गमाला अत्यन्त प्रभावशाली होती है। हमारे बहुत से काम ऐसे होते हैं, जिन्हें सामान्य तरीके अथवा पूजा से पूर्ण नहीं किया जा सकता है। यदि हम ये चाहते हैं कि हमारे षट्कर्म जैसे – मारण, मोहन, वशीकरण आदि सिद्ध हों तो हमें खड्गमाला का प्रयोग करना चाहिए। इस माला मन्त्र का कम से कम 1108 पाठ करें, आपका कार्य सिद्ध होगा। जो साधक श्री विद्या में दीक्षित हैं केवल वही इसका प्रयोग करें अथवा सर्वप्रथम अपने गुरूदेव से श्री विद्या की दीक्षा ग्रहण करें।
Download Shri Lalita Tripura Sundari khadgamala Stotram in Sanskrit & Hindi Pdf

Please Click Here to Subscribe for Monthly Magazine on Mantra Tantra Sadhana

Read the rest of this entry

Vipreet Pratyangira Mantra Sadhna Evam Siddhi & Puja Vidhi

Vipreet Pratyangira Mantra Sadhna Evam Siddhi & Puja Vidhi   ( श्री विपरीत प्रत्यंगिरा मंत्र  साधना एवं सिद्धि )

Pratyangira Mantra Sadhna Evam Siddhi

 

For astrology, mantra diksha & sadhna guidance email to sumitgirdharwal@yahoo.com, shaktisadhna@yahoo.com or call us on 9410030994 or 9540674788 (Sumit Girdharwal Ji). For more information visit http://www.baglamukhi.info or http://www.yogeshwaranand.org

Download Vipreet Pratyangira Mantra Sadhna Evam Siddhi & Puja Vidhi in Hindi Pdf

Please Click Here to Subscribe for Monthly Magazine on Mantra Tantra Sadhana

Vipreet Pratyangira Mantra Benefits in Hindi

यदि शत्रु निरंतर आप पर अभिचारिक कर्म कर रहा हो, निरंतर किसी न किसी रूप में आपको आर्थिक, मानसिक, सामाजिक, शारीरिक क्षति पहुंचा रहा हो और आपके भविष्य को चैपट कर रहा हो, तब भद्रकाली के इस स्वरूप, अर्थात विपरीत प्रत्यंगिरा का आश्रय लेना सर्वोत्तम उपाय है। जिस दिन से साधक इस महाविधा का प्रयोग आरम्भ करता है, उसी दिन से ही भगवती भद्र काली उसकी सुरक्षा करने लगती हैं और शत्रु द्वारा किये गये अभिचाारिक कर्म दोगुने वेग से उसी पर लौटकर अपना प्रहार करते हैं। इसके अतिरिक्त राजकीय बाधा, अरिष्ट ग्रह बाधा निवारण में तथा अपना खोया हुआ पद, आस्तित्व ओर गरिमा प्राप्ति में भी यह विद्या सर्वोत्तम मानी जाती है। साधक की आयु, यश तथा तेज की वृद्धि करने में भी यह विद्या बहुत उत्तम मानी जाती है।

Vipreet Pratyangira Mantra Benefits in English

A most powerful Mantra Sadhana to invoke Devi Pratyangira is given here. Vipreet Pratyangira Mantra Sadhna  is  used to destroy the mind of an enemy who is unnecessarily troubling and bent upon harming some innocent and helpless person. confuses the enemy by destroying  his harmful and destructive thinking and by confusing his mind. As always clarified such sadhnas should only be performed under the highly advanced practitioner (Your Guru) after mantra diksha.

Download Vipreet Pratyangira Mantra Sadhna Evam Siddhi & Puja Vidhi in Hindi Pdf

Read the rest of this entry

Sri Baglamukhi Panjar Stotram बगलामुखी पञ्जर स्तोत्र

Sri Baglamukhi Panjar Stotram बगलामुखी पञ्जर स्तोत्र

यह अति गोपनीय व रहस्यपूर्ण पञ्जर स्तोत्र अति दुर्लभ तथा परीक्षित है। इस पञ्जर का जप अथवा पाठ करने वाला साधक प्रत्येक क्षेत्र में सफलता का सोपान करता है। घोर दारिद्रय व विघ्नों के नाशक इस स्तोत्र का पाठ करने वाले साधक की माँ बगला स्वयं रक्षा करती हैं। शत्रु दल साधक को मूक होकर देखते रह जाते हैं।

For mantra diksha & sadhana guidance email to shaktisadhna@yahoo.com or call us on 9540674788. Log on to http://www.baglamukhi.info or http://www.yogeshwaranand.org for more info

It is a very secret, mysterious and rare stotra of Devi Baglamukhi known as Panjar Stotram. It has been proved many times that it helped many people in getting success in their life. It is said that one who recite Panjar Stotra everyday Ma Baglamukhi protect him herself. This stotra is the giver of wealth, health and overall happiness in life.

Download Sri Baglamukhi Panjar Stotram Pdf

View Baglamukhi Panjar Stotram on Google Drive

Read the rest of this entry

Advertisements

Chinnamasta Ashtottara Shatanamavali श्री छिन्नमस्ता अष्टोत्तरशतनामावली

Chinnamasta Ashtottara Shatanamavali श्री छिन्नमस्ता अष्टोत्तरशतनामावली

जो साधक योग में प्रगति करना चाहते हैं उन्हें देवी छिन्नमस्ता की आराधना करनी चाहिए। देवी की विशेष कृपा प्राप्ति हेतु उनके अष्टोत्तरशतनाम से नित्य अर्चन करना चाहिए। ध्यान रहे की जो साधक छिन्नमस्ता में दीक्षित हैं केवल वही उपासना करें।

अधिक जानकारी के लिए संपर्क करें – 9540674788 अथवा ईमेल करें – shaktisadhna@yahoo.com

Read the rest of this entry

Baglamukhi Jayanti 3 May 2017 बगलामुखी जयंती

Mahavidya Shri Baglamukhi Sadhana Aur Siddhi

3 May 2017 (वैशाख शुक्ल अष्टमी) को देवी बगलामुखी जयंती  (अवतरण दिवस)  है। आप सभी को बगलामुखी जयंती की हार्दिक शुभकामनाएं।  आप माँ पीताम्बरा की कृपा से सदैव प्रसन्न रहें एवं भक्ति के मार्ग पर अग्रसर रहें यही माँ बगलामुखी से हमरी विनती है।  जय माता दी।

यह दिन सभी भक्तों के लिए एक विशेष महत्व रखता है और प्रत्येक भक्त ऐसे शुभ दिन पर माँ की अधिक से अधिक कृपा प्राप्त करना चाहता है।  यहाँ आपको बताते है कि कैसे आप भी माँ की उपासना कर उन्हें प्रसन्न कर सकते है।

For Astrology, Mantra Diksha & Sadhana Guidance email to sumitgirdharwal@yahoo.com or call us on 9410030994 (Sumit Girdharwal Ji).

Download Picture Image of Baglamukhi Mata

Baglamukhi Jayanti Pooja Vidhi (बगलामुखी जयंती पूजा विधि )

बगलामुखी जयंती की यह पूजा कोई भी व्यक्ति कर सकता है चाहे वह दीक्षित है अथवा नहीं।  यह पूजा आप सुबह में अथवा रात्रि में करें।  माँ बगलामुखी का एक नाम पीताम्बरा भी है,  इन्हें पीला…

View original post 994 more words

Success Mantra

Everyone wants to be successful in life. Below are few success mantras which you should remember if you want to be successful. Whether you are doing any sadhana or you are into  education, job or business below mantras will help you to achieve success.

Be prepared

if we need to achieve tremendous success at something, we need to do our full research on it. If we are fully prepared, it becomes easier for us to becoming successful at something.

Don’t stop mid way

No matter what happens, do not stop doing any work mid way. If you take a break, chances are that your motivation to do that particular thing too drops and this isn’t a good sign. Do everything from start to finish.

Value time

A person who does not value the importance of time has already lost half the battle. Value time when it comes to achieving success. Don’t waste time or digress from something that you are already doing to do something else.

Keep your emotions in control

Its good to be emotional, its another thing to be ruled by your heart. When it comes to your work, do not let anything distract you from your goal — make sure that you concentrate only on work and nothing else. Success will come to you if you work hard enough.

Be committed

If your heart is not in something that you do, then you will not achieve success at it, never mind if you mint some money out of it though. Be committed in your goals and the rest will follow.

Don’t stop learning

If you are doing something that you are really good at, you will be successful. However, the key is to be successful at something you are not adept it, so never stop learning in your journey with success. Treat every failure as a lesson.

Enjoy the journey

Learning should not be serious right? Who said you can’t be successful and happy? Make sure you have fun while on your journey to success. The more calm you remain, the more successful you will be. Aggression will lead you nowhere.

Don’t stagnate

Your thoughts not only affect your actions, but also your self-belief and determination. If you think that you are stuck somewhere, start all over. Don’t let stagnate thoughts cloud your opinion or deter you from your goal.

Get imaginative

The key to being successful is to not being boring. Stay in the box, but think out of the box. Do your research on what you want to do and then think of innovative ways to implement those ideas. You would have already won half the battle.

Don’t be nice to yourself

Be nice to others, but not so nice to yourself. Pushing yourself harder and harder every time not only displays your commitment level, but also helps you test your own personal limits. Keep at it, till you get it right.

Don’t get distracted

One of the most important rules of success is to get rid of each and every distraction in your life, whether it is in the form of a person or a thing. For the time being, forget everything and just concentrate on your goal.

Trust yourself

Initially, when you start out, do not rely on others for help or motivation. Trust only yourself and even though you might fail miserably, you will at least have the satisfaction of having tried.

Write down

There can be no success without proper planning. And planning works not just in the mind — make sure that you write down all your ideas on a piece of paper and refer to it when the need arises.

Burn out

As hard at it to achieve success, there is also the added fear of getting burn out, even before you have reached there. Make sure you know your limits when it comes to pushing yourself. When tired, rest, but don’t quit.

Don’t be lazy

Taking a break however does not mean you become lax. Even in your free time, devote yourself in doing something constructive that would encourage you to put your brain to some good use.

Be prepared for failures

Almost all success stories have great failure stories too preceding them, though we do not always know about them. Keep yourself prepared for the worst of failures — only then will you be able to achieve success.

Don’t lose hope

Finally, it is easy to lose the motivation when everything around you is going haywire. If this happens, relax and take each day as it comes — losing hope not only makes you depressed, but also makes success harder to achieve.

Other important Articles

1. Baglamukhi Puja Vidhi in English (Ma Baglamukhi Pujan Vidhi)

2. Dus Mahavidya Tara Mantra Sadhana Evam Siddhi

3. Baglamukhi Pitambara secret mantras by Shri Yogeshwaranand Ji

4. Bagalamukhi Beej Mantra Sadhana Vidhi

5. Baglamukhi Pratyangira Kavach

6. Durga Shabar Mantra

7. Orignal Baglamukhi Chalisa from pitambara peeth datia

8. Baglamukhi kavach in Hindi and English

9. Baglamukhi Yantra Puja

10. Download Baglamukhi Chaturakshari Mantra and Puja Vidhi in Hindi Pdf

11. Dusmahavidya Dhuamavai (Dhoomavati) Mantra Sadhna Vidhi 

12. Mahashodha Nyasa from Baglamukhi Rahasyam Pitambara peeth datia

13. Mahamritunjaya Mantra Sadhana Vidhi in Hindi and Sanskrit

14. Very Rare and Powerful Mantra Tantra by Shri Yogeshwaranand Ji

15. Mahavidya Baglamukhi Sadhana aur Siddhi

16. Baglamukhi Bhakt Mandaar Mantra 

17. Baglamukhi Sahasranamam

18. Dusmahavidya Mahakali Sadhana

19. Shri Balasundari Triyakshari Mantra Sadhana

20. Sri Vidya Sadhana

21. Click Here to Download Sarabeswara Kavacham

22. Click Here to Download Sharabh Tantra Prayoga

23. Click Here to Download Swarnakarshan Bhairav Mantra Sadhana Vidhi By Gurudev Shri Yogeshwaranand Ji

24. Download Mahakali Mantra Tantra Sadhna Evam Siddhi in Hindi Pdf

25. Download Twenty Eight Divine Names of Lord Vishnu in Hindi Pdf

26. Download Shri Hanuman Vadvanal Stotra in Hindi Sanskrit and English Pdf

27. Download Shri Narasimha Gayatri Mantra Sadhna Evam Siddhi in Hindi Pdf

28. Download Santan Gopal Mantra Vidhi in Hindi and Sanskrit  Pdf

29. Download Shabar Mantra Sadhana Vidhi in Hindi Pdf

30. Download sarva karya siddhi hanuman mantra in hindi

31. Download Baglamukhi Hridaya Mantra in Hindi Pdf

32. Download Baglamukhi Mantra Avam Sadhna Vidhi in Hindi

33. Download Shiva Shadakshari Mantra Sadhna Evam Siddhi ( Upasana Vidhi)

34. Download Vipreet Pratyangira Mantra Sadhna Evam Siddhi & Puja Vidhi in Hindi Pdf

35. Download Aghorastra Mantra Sadhna Vidhi in Hindi & Sanskrit  Pdf

36. Download Shri Lalita Tripura Sundari khadgamala Stotram in Sanskrit & Hindi Pdf

37. Download Sarva Karya Siddhi Saundarya Lahri Prayoga in Hindi Pdf

38. Download Pashupatastra Mantra Sadhana Evam Siddhi  Pdf in Hindi & Sanskrit

39. Download Param Devi Sukt of Ma Tripursundari Mantra to attract Money & Wealth

40. Download Very Powerful Hanuman Mantra Sadhna and Maruti Kavach in Hindi Pdf

41. Download Baglamukhi Pitambara Ashtottar Shatnam Stotram

42. Download Magha Gupta Navaratri 2015 Puja Vidhi and Panchanga

43. Download Baglamukhi Chaturakshari Mantra and Puja Vidhi in Hindi Pdf

44. Chinnamasta Mantra Sadhana Evam Siddhi in Hindi

45. Download Baglamukhi Ashtakshar Mantra Sadhana in Hindi

46. Download Baglamukhi Bhakt Mandaar Mantra for Wealth & Money

47. Download Shiv Sadhana Vidhi on Shivratri 12 August 2015 Shiv Puja Vidhi in Hindi pdf

48. Pushp Kinnari Sadhana Evam Mantra Siddhi in Hindi

49. Download Bhagwati Baglamukhi Sarva Jana Vashikaran Mantra in Hindi and English Pdf

50. Downloadd Sri Kali Pratyangira Sadhana Evam Siddhi in Hindi and Sanskrit Pdf

51. Which Sadhana is Best? कौन सी साधना उत्तम है?

52. Download Chaur Ganesh Mantra चौर गणेश मंत्र Pdf

53. Baglamukhi Mantra Utkilan Vidhaan in Hindi Pdf बगलामुखी मंत्र वृहत् उत्कीलन विधान