Advertisements

Category Archives: नवरात्रि पूजा विधि

Shardiya Navratri 2016 Puja Vidhi शारदीय नवरात्रि

Shardiya Navratri 2016 Puja Vidhi शारदीय नवरात्रि

maa durga nava roop nine forms of shakti

यह है घट स्थापना का समय

शारदीय नवरात्रि का पहला दिन इस बार 01 अक्टूबर 2016 को पड़ रहा है। इस दिन कलश स्थापना का शुभ मुहूर्त सुबह 07:46 बजे से 09:14 बजे तक है।

यह है कलश स्थापना के लिए सामान

शारदीय नवरात्रि के लिए मिट्टी का पात्र और जौ, शुद्ध, साफ मिट्टी, शुद्ध जल से भरा हुआ सोना, चांदी, तांबा, पीतल या मिट्टी का कलश, मोली (कलवा), साबुत सुपारी, कलश में रखने के लिए सिक्के, फूल और माला, अशोक या आम के 5 पत्ते, कलश को ढकने के लिए मिट्टी का ढक्कन, साबुत चावल, एक पानी वाला नारियल, लाल कपड़ा या चुनरी की आवस्यकता होती है।

ऐसे करें कलश स्थापना

  • नवरात्रि में कलश स्थापना करने के दौरान सबसे पहले पूजा स्थल को शुद्ध कर लें।
  • लकड़ी की चौकी रखकर उसपर लाल रंग का कपड़ा बिछाएं।
  • कपड़े पर थोड़े-थोड़े चावल रखें।
  • चावल रखते हुए सबसे पहले गणेश जी का स्मरण करें।
  • एक मिट्टी के पात्र में जौ बोयें।
  • इस पात्र पर जल से भरा हुआ कलश स्थापित करें।
  • कलश पर रोली से स्वस्तिक या ‘ऊँ’ बनायें।
  • कलश के मुख पर कलवा बांधकर इसमें सुपारी, सिक्का डालकर आम या अशोक के पत्ते रखें।
  • कलश के मुख को चावल से भरी कटोरी से ढक दें।
  • एक नारियल पर चुनरी लपेटकर इसे कलवे से बांधें और चावल की कटोरी पर रख दें।
  • सभी देवताओं का आवाहन करें और धूप दीप जलाकर कलश की पूजा करें।
  • भोग लगाकर मां की पूजा करें।

If you need any guidance please call us on 9410030994 (Sumit Girdharwal Ji) or 9917325788 (Shri Yogeshwaranand Ji). Visit http://www.baglamukhi.info or http://www.yogeshwaranand.org for more info.

Download Durga Saptasati in Hindi and Sanskrit Pdf

Download Durga Shabar Mantra with Dushmahavidya and Shiva Sadhana

Read the rest of this entry

Advertisements

Ashadha Gupta Navratri Starting 5th July 2016 गुप्त नवरात्री

Ashadha Gupta Navratri Starting 5th July 2016

maa durga nava roop nine forms of shakti

प्रत्येक वर्ष आने वाले दो नवरात्रों से तो आप सभी लोग परिचित हैं लेकिन इनके अलावा प्रत्येक वर्ष दो और नवरात्री होती हैं जिन्हें गुप्त नवरात्री कहा जाता है। पूर्व काल में इनका ज्ञान केवल उच्च कोटि के साधकों को होता था जो इस समय का उपयोग विशिष्ट साधनाओं को सम्पन्न करने में किया करते थे।
गुप्त नवरात्र में पूजा, उपासना सामान्य नवरात्रों के समान ही होती हैा तान्त्रिक समाज में इन नवरात्रों का बहुत ही महत्व है, जो इस समय की लगातार प्रतिक्षा करतें हैं।

If you need any guidance please call us on 9410030994 (Sumit Girdharwal Ji) or 9917325788 (Shri Yogeshwaranand Ji). Visit http://www.baglamukhi.info or http://www.yogeshwaranand.org for more info.

Read the rest of this entry

Ashwin Shardiya Navratri Dates and Puja Vidhi 13th October – 22nd October 2015

Ashwin  Shardiya Navratri Dates and Puja Vidhi 13th October – 22nd October 2015

 

maa durga nava roop nine forms of shakti

Shardiya Navratri is the most popular and significant Navratri of all Navratris. That’s why Shardiya Navratri is also known as Maha Navratri.

It falls in lunar month Ashwin during Sharad Ritu. The name Shardiya Navratri has been taken from Sharad Ritu. All nine days during Navratri are dedicated to nine forms of Goddess Shakti. This year Shardiya Navratri are falling in the month of October. The nine days festivity culminates on tenth day with Dushera or Vijay Dashmi

These nine days are very good to start any sadhana. If anyone is willing to do dus mahavidya upasana then he/she should not waste this time. These nine days alone can change your life & your future, but it depends on you how you spend your life in these nine days. Those who never had any spiritual experience in their life they should practice mantras in these navaratri. Those who have taken diksha from us they must do anusthaan in this navaratri. It is not compulsory to 1.25 lakh mantras. You can do anusthaan of 21000 mantras, 31000 mantras etc, but you have to complete in nine days only. Homam can be done on 10th day. Who are already in any anusthaan please do continue it , no new anusthaan is required for them. ( Incase you had already started any anusthan before navaratri)

Those who have not taken mantra diksha as of yet they should take it in this navaratri as it is the best time.
Navaratri Schedule –
Navaratri Day 1 (13th October 2015 Tuesday) Pratipada Tithi
Ghatasthapana & Shailpurti Puja

Ghatasthapana Muhurta = 06:24 AM to 10:12AM

Navaratri Day 2 (14th October 2015 Wednesday) Pratipada Tithi
Chandra Darshan
Navaratri Day 3 (15th October 2015 Thursday) Dwitia Tithi
Brahmacharini Puja
Navaratri Day 4 (16th October 2015 Friday) Tritiya Tithi
Chandraghanta Puja
Navaratri Day 5 (17th October 2015 Saturday) Chaturthi Tithi
Kushmanda Puja
Navaratri Day 6 (18th October 2015 Sunday) Panchami Tithi
Skandamata Puja
Navaratri Day 7 (19th July October Monday) Shasthi Tithi
Katyayani Puja
Navaratri Day 8 (20nd October 2015 Tuesday) Saptami Tithi
Kalaratri Puja
Navaratri Day 9 (21st October 2015 Wednesday) Ashtami Tithi
Mahagauri Puja (Durga Ashtami)
Navaratri Day 10 (22nd October 2015 Thursday) Navami Tithi
Siddhidatri Puja (Durga Navmi)
Navaratri Day 11 (23rd October 2015 Friday) Dashami Tithi
Navaratri Parayana
For Mantra diksha  & Sadhana guiance email to shaktisadhna@yahoo.com or call us on 9410030994 or 9540674788. For more information visit http://www.baglamukhi.info orhttp://www.yogeshwaranand.org

Download Durga Shabar Mantra with Dushmahavidya and Shiva Sadhana

Download Durga Saptasati in Hindi and Sanskrit Pdf

Read the rest of this entry

Ashadha Gupta Navratri 2015 Dates & Puja Vidhi

For Mantra Diksha & Sadhana guidance email to shaktisadhna@yahoo.com or call us on 9410030994, 9540674788 ( Please message your query as we will also be busy doing our sadhana). Visit http://www.baglamukhi.info and http://www.yogeshwaranand.org for more information.

maa durga nava roop nine forms of shakti

Ashadha Navratri, also known as Gupta Navratri, is nine days period dedicated to the nine forms of Shakti or mother Goddess. It falls in the month of Ashadha during June or July. Gupta Navaratri is also known as Gayatri Navratri.

These nine days are very good to start any sadhana. If anyone is willing to do dus mahavidya upasana then he/she should not waste this time. These nine days alone can change your life & your future, but it depends on you how you spend your life in these nine days. Those who never had any spiritual experience in their life they should practice mantras in these navaratri. Those who have taken diksha from us they must do anusthaan in this navaratri. It is not compulsory to 1.25 lakh mantras. You can do anusthaan of 21000 mantras, 31000 mantras etc, but you have to complete in nine days only. Homam can be done on 10th day.  Who have already in any anusthaan please do continue it , no new anusthaan is required for them.

Those who have not taken mantra diksha as of yet they should take it in this navaratri as it is the best time.

Navaratri Schedule –

Read the rest of this entry

Magha Gupta Navaratri 2015 गुप्त नवरात्री

Magha Gupta Navratri 2015 गुप्त नवरात्री

प्रत्येक वर्ष आने वाले दो नवरात्रों से तो आप सभी लोग परिचित हैं लेकिन इनके अलावा प्रत्येक वर्ष दो और नवरात्री होती हैं जिन्हें गुप्त नवरात्री कहा जाता है। पूर्व काल में इनका ज्ञान केवल उच्च कोटि के साधकों को होता था जो इस समय का उपयोग विशिष्ट साधनाओं को सम्पन्न करने में किया करते थे।
गुप्त नवरात्र में पूजा, उपासना सामान्य नवरात्रों के समान ही होती हैा तान्त्रिक समाज में इन नवरात्रों का बहुत ही महत्व है, जो इस समय की लगातार प्रतिक्षा करतें हैं।

साधना को आरम्भ करने से पूर्व एक साधक को चाहिए कि वह मां भगवती  की उपासना अथवा अन्य किसी भी देवी या देवता की उपासना निष्काम भाव से करे। उपासना का तात्पर्य सेवा से होता है। उपासना के तीन भेद कहे गये हैं:- कायिक अर्थात् शरीर से , वाचिक अर्थात् वाणी से और मानसिक- अर्थात् मन से।  जब हम कायिक का अनुशरण करते हैं तो उसमें पाद्य, अर्घ्य, स्नान, धूप, दीप, नैवेद्य आदि पंचोपचार पूजन अपने देवी देवता का किया जाता है। जब हम वाचिक का प्रयोग करते हैं तो अपने देवी देवता से सम्बन्धित स्तोत्र पाठ आदि किया जाता है अर्थात् अपने मुंह से उसकी कीर्ति का बखान करते हैं। और जब मानसिक क्रिया का अनुसरण करते हैं तो सम्बन्धित देवता का ध्यान और जप आदि किया जाता है।
जो साधक अपने इष्ट देवता का निष्काम भाव से अर्चन करता है और लगातार उसके मंत्र का जप करता हुआ उसी का चिन्तन करता रहता है, तो उसके जितने भी सांसारिक कार्य हैं उन सबका भार मां स्वयं ही उठाती हैं और अन्ततः मोक्ष भी प्रदान करती हैं। यदि आप उनसे पुत्रवत् प्रेम करते हैं तो वे मां के रूप में वात्सल्यमयी होकर आपकी प्रत्येक कामना को उसी प्रकार पूर्ण करती हैं जिस प्रकार एक गाय अपने बछड़े के मोह में कुछ भी करने को तत्पर हो जाती है। अतः सभी साधकों को मेरा निर्देष भी है और उनको परामर्ष भी कि वे साधना चाहे जो भी करें, निष्काम भाव से करें। निष्काम भाव वाले साधक को कभी भी महाभय नहीं सताता। ऐसे साधक के समस्त सांसारिक और पारलौकिक समस्त कार्य स्वयं ही सिद्ध होने लगते हैं उसकी कोई भी किसी भी प्रकार की अभिलाषा अपूर्ण नहीं रहती ।
मेरे पास ऐसे बहुत से लोगों के फोन और मेल आते हैं जो एक क्षण में ही अपने दुखों, कष्टों का त्राण करने के लिए साधना सम्पन्न करना चाहते हैं। उनका उद्देष्य देवता या देवी की उपासना नहीं, उनकी प्रसन्नता नहीं बल्कि उनका एक मात्र उद्देष्य अपनी समस्या से विमुक्त होना होता है। वे लोग नहीं जानते कि जो कष्ट वे उठा रहे हैं, वे अपने पूर्व जन्मों में किये गये पापों के फलस्वरूप उठा रहे हैं। वे लोग अपनी कुण्डली में स्थित ग्रहों को देाष देते हैं, जो कि बिल्कुल गलत परम्परा है। भगवान शिव ने सभी ग्रहों को यह अधिकार दिया है कि वे जातक को इस जीवन में ऐसा निखार दें कि उसके साथ पूर्वजन्मों का कोई भी दोष न रह जाए। इसका लाभ यह होगा कि यदि जातक के साथ कर्मबन्धन शेष नहीं है तो उसे मोक्ष की प्राप्ति हो जाएगी। लेकिन हम इस दण्ड को दण्ड न मानकर ग्रहों का दोष मानते हैं।

For astrology, mantra diksha & sadhna guidance email to sumitgirdharwal@yahoo.com, shaktisadhna@yahoo.com or call us on 9917325788 (Shri Yogeshwaranand Ji). For more information visit http://www.baglamukhi.info or http://www.yogeshwaranand.org

Read the rest of this entry