Advertisements

Bhuvaneshwari ( भुवनेश्वरी )

For Bhuvaneshwari Mantra Diksha and Sadhana guidance email to sumitgirdharwal@yahoo.com / shaktisadhna@yahoo.com or call us on 9410030994/9540674788.

दस महाविद्याओं में भुवनेश्वरी चौथी महाविद्या हैं। भुवनेश्वरी को आदिशक्ति और मूल प्रकृति भी कहा गया है। भुवनेश्वरी ही शताक्षी और शाकम्भरी नाम से प्रसिद्ध हुई। पुत्र प्राप्ती के लिए लोग इनकी आराधना करते हैं।
आदि शक्ति भुवनेश्वरी मां का स्वरूप सौम्य एवं अंग कांति अरुण हैं। भक्तों को अभय एवं सिद्धियां प्रदान करना इनका स्वभाविक गुण है। इस महाविद्या की आराधना से सूर्य के समान तेज और ऊर्जा प्रकट होने लगती है। ऐसा व्यक्ति अच्छे राजनीतिक पद पर आसीन हो सकता है। माता का आशीर्वाद मिलने से धनप्राप्त होता है और संसार के सभी शक्ति स्वरूप महाबली उसका चरणस्पर्श करते हैं।

एकाक्षरी मंत्र – ह्रीं

त्र्यक्षरी मंत्र -ऐं ह्रीं श्रीं

एक बीजाक्षर युक्त मंत्र – ह्रीं भुवनेश्वर्यै नमः

द्वय बीजाक्षर युक्त मंत्र – श्रीं ह्रीं भुवनेश्वर्यै नमः

Bhuvaneshwari Gayatri Mantra

Bhuvaneshwari Gayatri Mantra 1

Bhuvaneshwari Gayatri Mantra 2

Books written by Sri Yogeshwaranand Ji and Sumit Girdharwal Ji

 

 

 

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: