Advertisements

Blog Archives

Hanuman Jayanti 22 April 2016

हनुमान जयंती पर आप सभी को हार्दिक शुभकामनाएं।

भगवान शिव के ग्यारहवे रुद्रावतार हनुमानजी कलियुग के जाग्रत देवता हैं जो शीघ्र ही अपने भक्तों पर कृपा करते हैं, लेकिन बस आवश्यकता है सही विधि से उनकी साधना करने की ।
हनुमान जी ने जिस प्रकार श्री राम जी के समस्त कार्योे को सम्पन्न किया था उसी प्रकार वो अपने भक्तों के सभी कार्यो को सम्पन्न करते हैं।
हनुमान उपासना से साधक समस्त विघ्न व्याधियों पर विजय प्राप्त कर सकता है। हनुमान जी को नवग्रहों ने वरदान दिया था कि वो उनके भक्तों को कभी भी परेशान नही करेगें इसीलिए शनि-राहु आदि ग्रहों की महादशा में इनकी साधना से बहुत अधिक लाभ मिलता है। शनि देव के गुरू भगवान शिव हैं एवं हनुमान जी भगवान शिव के अवतार, इसीलिए शनिदेव शिव भक्तों एवं हनुमान भक्तों पर विशेष कृपा करते हैं।
प्रस्तुत हनुमत् मंत्र बहुत ही प्रभावशाली है जिसेे श्रीकृष्ण ने महाभारत काल में अर्जुन को प्रदान किया था। इसी मंत्र के प्रभाव से अर्जुन ने अजेय योद्धाओं पर विजय प्राप्त की थी। इस मंत्र के प्रभाव से साधक जन किसी भी प्रकार की तंत्रबाधा, रोग, शत्रुबाधा, नजर, कोर्ट-कचहरी एवं अन्य संकटों से मुक्ति प्राप्त कर सकता है।

हनुमान जयंती पर उपासना करने से विशेष फल की प्राप्ति होती है।  इस दिन सुंदरकांड का पाठ करने से सभी मनोकामनाओं की प्राप्ति होती है।  हनुमान जी को भोग लगाकर उनसे आशीर्वाद प्राप्त करना चाहिए।

For astrology, mantra diksha & sadhna guidance email to sumitgirdharwal@yahoo.comshaktisadhna@yahoo.com or call us on 9540674788 (Sumit Girdharwal Ji). For more information visit http://www.baglamukhi.info or http://www.yogeshwaranand.org

Read the rest of this entry

Advertisements