Advertisements

Blog Archives

Dhumavati Jayanti धूमावती जयंती 12 June 2016

12  June  2016 (ज्येष्ठ शुक्ल अष्टमी) को देवी धूमावती  जयंती  (अवतरण दिवस)  है। आप सभी को धूमावती जयंती की हार्दिक शुभकामनाएं।  आप माँ की  कृपा से सदैव प्रसन्न रहें एवं भक्ति के मार्ग पर अग्रसर रहें यही माँ धूमावती से हमरी विनती है।  जय माता दी।

For mantra diksha and sadhana guidance email to sumitgirdharwal@yahoo.com or call us on 9410030994. Visit http://www.yogeshwaranand.org or http://www.baglamukhi.info

dhumavati jayanti 2016

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

माँ धूमावती की पूजा करते समय ऐसा ध्यान करना चाहिए कि माँ प्रसन्न होकर हमारे सभी रोग , दोष , क्लेश , तंत्र , भूत प्रेत आदि बाधाओं को अपने शूप में समेटकर हमारे घर से विदा हो रही हैं और हमें  धन , लक्ष्मी सुख शांति का आशीर्वाद दे रही हैं।
जब दुर्भाग्य , दुःख एवं दरिद्रता लम्बे समय से पीछा कर रही हो तो माँ धूमावती की दीक्षा लेकर उनकी उपासना करनी चाहिए। जब शत्रु मृत्यु तुल्य कष्ट दे रहे हों तो माँ बगलामुखी से साथ धूमावती की उपासना करनी चाहिए।

dhoomavati dhumavati dhyaan mantra

Read the rest of this entry

Advertisements

Dhumavati Jayanti on 26th May 2015

Today is Ma Dhumavati Jayanti and we wish all our followers a very Happy Dhumavati Jayanti. We wish that this day will bring happiness in your life and ma dhoomavati will remove all the problems from your life.

 

goddess-dhumavati-mahavidyas

मां धूमावती जयंती के विशेष अवसर पर दस महाविद्या का पूजन किया जाता है।  26 मई 2015, दिन मंगलवार को धूमावती जयंती मनाई जाएगी। धूमावती जयंती समारोह में धूमावती देवी के स्तोत्र पाठ व सामूहिक जप का अनुष्ठान होता है। काले वस्त्र में काले तिल बांधकर मां को भेंट करने से साधक की सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं। परंपरा है कि सुहागिनें मां धूमावती का पूजन नहीं करती हैं और केवल दूर से ही मां के दर्शन करती हैं। मां धूमावती के दर्शन से पुत्र और पति की रक्षा होती है।

पुराण अनुसार एक बार मां धूमावती अपनी क्षुधा शांत करने के लिए भगवान शंकर के पास जाती हैं किंतु उस समय भगवान समाधि में लीन होते हैं। मां के बार-बार निवेदन के बाद भी भगवान शंकर का ध्यान से नहीं उठते, इस पर देवी श्वास खींचकर भगवान शिव को निगल जाती हैं। शिव के गले में विष होने के कारण मां के शरीर से धुंआ निकलने लगा और उनका स्वरूप विकृत और श्रृंगार विहीन हो जाता है। इस कारण उनका नाम धूमावती पड़ता है।

माँ की जयंती पूरे देश भर में धूमधाम के साथ मनाई जाती है जो भक्तों के सभी कष्टों को मुक्त कर देने वाली है।

For Ma Dhumavati Mantra Sadhana Guidance email to sumitgirdharwal@yahoo.com or call us on 9410030994. Visit our website http://www.yogeshwaranand.org for more info.

Dhumavati Mantra Sadhana Evam Siddhi in Hindi Pdf

Read the rest of this entry