Blog Archives

Param Devi Sukta of Ma TripuraSundari ( Mantras and Stotras for Money and Wealth)

Param Devi Sukta of Ma TripuraSundari ( Mantras and Stotras for Money and Wealth)

For astrology, mantra diksha & sadhna guidance email to sumitgirdharwal@yahoo.com, shaktisadhna@yahoo.com or call us on 9917325788 (Shri Yogeshwaranand Ji). For more information visit http://www.baglamukhi.info or http://www.yogeshwaranand.org

भगवती महात्रिपुर सुन्दरी का यह स्तोत्र अत्यन्त ही गोपनीय एवं प्रमाणित है, लेकिन यह गुरू-गम्य है। अर्थात् गुरू-मुख से प्राप्त करने के उपरान्त ही यह फलदायी होता है। यदि इस सूक्त का पाठ निरंतर तीन सालों तक किया जाये तो निश्चित रूप से साधक को भगवती त्रिपुर सुंदरी का साक्षात्कार होता है। इस स्तोत्र का नित्य पाठ करने वाला साधक समस्त सिद्धियों का स्वामी, सर्वत्र विजय प्राप्त करने वाला एवं संसार को वश में करने वाला हो जाता है। धन एवं सभी ऐश्वर्य उसके दास हो जाते हैं। उसकी जिह्वा पर साक्षात मां सरस्वती का निवास हो जाता है। उपरोक्त समस्त इच्छाएं रखने वाले साधक को चाहिए कि वह श्री गुरू-चरणों में बैठकर इस स्तोत्र को प्रयत्नपूर्वक प्राप्त करे । जो साधक श्री विद्या में दीक्षित नही हैं वो सर्वप्रथम श्री विद्या की दीक्षा अपने गुरूदेव से प्राप्त करें ।

श्री विद्या ललिता त्रिपुर सुन्दरी धन, ऐश्वर्य, भोग एवं मोक्ष की अधिष्ठाता देवी हैं। अन्य विद्याओं की उपासना मंत या तो भोग मिलता है या फिर मोक्ष, लेकिन श्री विद्या का उपासक जीवन पर्यन्त सारे ऐश्वर्य भोगते हुए अन्त में मोक्ष को प्राप्त करता है। इनकी उपासना तंत्र शास्त्रों में अति रहस्यमय एवं गुप्त रूप से प्रकट की गयी है। पूर्व जन्म के विशेष संस्कारों के बलवान होने पर ही इस विद्या की दीक्षा का योग बनता है। ऐसे बहुत ही कम लोग होते हैं जिन्हे इस जीवन में यह उपासना करने का सौभाग्य प्राप्त होता है। मुख्य रूप से इनके तीन स्वरूपों की पूजा होती है। प्रथम आठ वर्षीया स्वरूप बाला त्रिपुरसुन्दरी, द्वितीय सोलह वर्षीया स्वरूप षोडशी, तृतीय युवा अवस्था स्वरूप ललिता त्रिपुरसुन्दरी। श्री विद्या साधना में क्रम दीक्षा का विधान है एवं सर्वप्रथम बाला सुन्दरी के मंत्र की दीक्षा साधको को दी जाती है। यदि आप ये साधना करना चाहते हैं तो हमसे सम्पर्क कर सकते है।
हमारे शास्त्रों में करोड़ो मंत्र हैं लेकिन हर मंत्र आपके लिए सही नही है। शिष्य के लिए कौन सा मंत्र सही है इसका निर्णय केवल गुरू ही कर सकता है। इसलिए आप केवल अपने आप को गुरू को समर्पित कर दीजिए, इसके बाद गुरू स्वयं आपको सही राह दिखायेगा।

Read the rest of this entry

Advertisements

Nineteen 19 syllable Baglamukhi Mantra Unnisakshari Bagalamukhi Mantra

Most Powerful Baglamukhi Mantra for Money and Wealth

For any guidance please email to shaktisadhna@yahoo.com or call on 9917325788(Shri Yogeshwaranand Ji) or 9540674788 (Shri Sumit Girdharwal Ji). For more information visit ww.yogeshwaranand.org or http://www.baglamukhi.info

Please Click Here to Subscribe for Monthly Magazine on Mantra Tantra Sadhana

Download Most Powerful Baglamukhi Mantra for Money and Wealth

Most Powerful Baglamukhi Mantra for Money & Wealth

Most Powerful Baglamukhi Mantra for Money & Wealth

 

Download Collection of All the Secret Mantras of Ma Baglamukhi by Shri Yogeshwaranand Ji

This mantra of Bagalamukhi is  Kalpadrum or Kalpataru (A mythological tree that is supposed to grant all desires). The adorer of this mantra becomes able to achieve all the desired worldly grandeur. He gets all the things in this world what he wants to get.

Actually this mantra is very secret and effective. In Tantrik community it is known by various names, as BHAKTA-MANDAR-VIDHYA, MANDAR VIDHYA & MANTRA-RATNA . There are innumerable devotees of Maa Bagalamukhi who got the grace of Bagalamukhi in form of mother Lakshmi.

The persons, who have lost their prosperity and business, whose money has been lapsed and they have no hope to regain, or where are no chances of its restoration, they should perform the adoration of this mantra

MANTRA: – Shreem Hreem Aim Bhagavati Bagalay may shriyama dehi-dehi Svaha.

Or

Om Shreem Hreem Aim Bhagavati Bagalay may shriyama dehi-dehi Svaha.

Suvarna-abharnnam Devi! Peeta-malya-ambara-vratam,

Brahmastra-vidhyam Bagalam vairinnam stambhineem bhajay.

Meaning: – I remember the Goddess Bagala wearing golden ornaments, yellow garland and yellow clothes. The mother Bagala, who is Brahmastra vidya and can astringent all the enemies.

                     Reciting this mantra one should do nyasa according to the root mantra.

There is a mantra in “Shri-mada-Bhagavata” (8th mantra in the 8th chapter of 8th Skanda) —–“Tatashcha-virbhoot sakshat Shri Rama Bhagavat-para! Ranjayanti dishah kantya vidyut saudamini yatha.” 

                     The person who is about to be insolvent, if recites this mantra with the combination of Mandaara mantra, can regain his prosperity. I have used this mantra many times and seen the good result. The factory or business which was about to close, stood again resulted into profit.

                   This mantra should be recited one lac times under the tree of Bilwa (wood apple or algae mormelos), meditating Bagalamukhi as Lakshmi.

Download Ma-Baglamukhi-Bhakt-Mandaar-Vidya-for-Wealth-and-Protection-From-Enemies